Tuesday, 23 October 2012

हर बात में कहते हैं वो मुझसे कि तुम्हे क्या ?


माली चमन को लूट के खाए तो तुम्हे क्या ?



सुनवाई हुई पूरी सज़ा बरकरार है -

फांसी पे न हम उसको चढ़ाएं तो तुम्हे क्या?



ज़म्हूरियत में चुनना सिर्फ सबका फ़र्ज़ है -

रहज़न उम्मीदवार है तो इससे तुम्हे क्या ?



दर दर पे सिर झुकाके है सेवा का व्रत लिया-

फिर पांच साल हाथ न आयें तो तुम्हे क्या ?



मेरे ही बुजुर्गों ने बसाई थीं बस्तियाँ -

मैं आग अगर उनको लगाऊं तो तुम्हे क्या ?



इस देश का पैसा तो विदेशों में जमा है -

इस देश में वापस नहीं लाएं तो तुम्हे क्या ?



यह माना पातिव्रत्य तेरा संस्कार है -

तेरा पति मेरे साथ सो जाए तो तुम्हे क्या ?



मेरा वज़ीरेआज़म तो ईमानदार है-

आरोपों की न जांच कराए तो तुम्हे क्या ?



विनय ओझा 'स्नेहिल'

Sunday, 19 August 2012

hai hum kyon na bikey

व्यंग्य
                                                     हाय हम क्यों ऩा बिक़े ?
( दूसरी किश्त )                                                                                     (  हरिशंकर राढ़ी )


''हो सकता है कि आपकी बात ठीक हो, पर ऐसा पहले नहीं था। आजकल पतन थोड़ा ज्यादा ही हो गया है। आज तो लोग-बाग खामखाह ही बिके जा रहे हैं।''
बोधनदास जी कुछ व्यंग्य पर उतर आए। मुझे लक्ष्य करके बोले, ''सरजी, किस जमाने की बात कर रहे हो ? कहाँ से शुरू  करूँ ? किस युग का नाम पहले लूँ ? सतयुग ठीक रहेगा क्या ? आपको मालूम है कि सबसे बड़ा  और सबसे पहले बिकने वाला आदमी कौन था? उसे खरीदा किसने था ?''
अब मैं चुप ! बिलकुल चुप ! ऐसा नहीं था कि मुझे कोई उत्तर नहीं सूझ रहा था; मैं अपने आपको फंसता हुआ महसूस कर रहा था। मैंने नकारात्मक शैली  में सिर हिलाया।
 ''भाई मेरे, मनुष्यों  की बिक्री सतयुग से ही शुरू  है। आप उससे अच्छे जमाने की कल्पना तो कर ही नहीं सकते ! आपको याद है कि सतयुग में अयोध्या के परम प्रतापी राजा हरिश्चंद्र  बिके थे ? बिके क्या नीलाम ही हुए थे। हुए थे या नहीं ?''
इस बार तो जैसे मैं उछल ही पड़ा  । मुझमें जान आ गई। मुझे लगा कि अब प्वाइंट मिल गया है जिसपर मैं इन्हें लथेड  सकता हूँ। मैं उच्च स्वर में बोला, ''क्या बात करते हो अंकलजी, कहाँ राजा भोज और कहाँ गंगुआ तेली ! सत्य हरिश्चंद्र  की तुलना ? कहाँ वे और कहाँ ये आज के टुच्चे ? उन्होंने तो सत्य, धर्म और वचन की रक्षा के लिए पूरे परिवार का बलिदान कर दिया ।''

''तो उनके बिक जाने से कौन सा धर्म स्थापित हो गया ? जिस धर्म के लिए वे बिके थे, उसमें भी छल का ही प्रयोग किया गया था। आज भी लोग धर्म के नाम पर बिक रहे हैं और अपने को पता नहीं क्या-क्या समझ रहे हैं ! लोगों की तो बात छोड़ो, धर्म खुद ही बिक रहा है, सबसे ज्यादा बिक रहा है और वह भी डंके की चोट पर। फिर तुमने यह तो नहीं सोचा कि हरिश्चंद्र को खरीदने वाला कौन था? हरिश्चंद्र  बिकता है तो उसे एक डोम खरीद लेता है जिसे यह भी नहीं पता कि हरिश्चंद्र  की कीमत क्या है? कोई हो-हल्ला या हंगामा नहीं होता। कहानी सुनकर लोग आनन्दित हो लेते हैं, बस। अगर वहीं डोम बिकता और उसे हरिश्चंद्र  खरीद लेते तो यह अलोकतांत्रिक और असामाजिक हो जाता। कितने तो पुतले फूँक दिए गए होते और 'हरिश्चंद्र ' नाम के कितने बेगुनाह पिट गए होते ? हरिश्चंद्र  को खरीदने वाले डोम आज भी मानव बाजार पर कब्जा जमाए बैठे हैं। पहले के हरिश्चंद्र  सत्य के लिए जरूर बिके थे किन्तु एक बार बिकने की परम्परा पड  गई तो पड  गई। पहले  मनुष्य  सत्य के लिए बिका, बाद में अर्थ और काम के लिए। रह गया मोक्ष, उसका तो कोई स्कोप ही नहीं।''

मुझे लगा कि मेरा दाँव खाली गया और बोधनदास जी यह प्रतियोगिता जीत जाएंगे। दरअसल मेरा 'राष्ट्रीय  दर्द' अब एक प्रतियोगिता बन गया था और मैं इसे हारना नहीं चाहता था। मेरे हर नहले पर बोधनदास जी दहला लगाए जा रहे थे और मैं निरुत्तर होता जा रहा था। अब मेरे सामने एक ही रास्ता था कि क्यों न एक बुद्धिजीवी की भांति बाल की खाल निकालकर बात को उलझाया जाए और कम से कम बराबरी या अनिर्णय जैसी स्थिति में मामले को छोड़ा  जाए। बहस जितनी ही उलझे, बुद्धिजीवी उतना ही बड़ा होता है। सो, मैंने कहा,'' देखिए, ये बात अलग है और आपने इसका गलत अर्थ निकाला है। सत्य हरिश्चंद्र  का बिकना गर्व की बात है। ऐसे तो पता नहीं कितने लोग बिके हैं। मीराबाई ने तो कहा कि वे गिरिधर के हाथ बिकी हुई हैं। कबीरदास किसी 'रंगरेजवा' के हाथ बिके थे। कितने क्रान्तिकारी अपने देश  के लिए बिक गए। ऐसे लोगों को यहाँ तुलना में भी खड़ा  करना एक तरह से पाप होगा।''


''देखिए राढ़ी साहब, बाजार पाप और पुण्य के रेट से नहीं चलता। यह तो मुनाफे के दम पर चलता है, अर्थशास्त्र  के सिद्धान्त पर चलता है। हाँ, इधर विज्ञापन के आधार पर भी चलने लगा है। पहले विज्ञापन नहीं था तो केवल मांग और आपूर्ति का नियम चलता था। एक बात और थी कि भाव क्रेता और विक्रेता की हैसियत के आधार पर भी तय होते थे। ग्राहक  विदेशी  हो तो पूछना ही क्या ? कुछ लोग तो विदेशी के हाथों बिकने को सौभाग्य मानते थे। स्वयं को इम्पोर्ट क्वालिटी का समझने लग जाते थे। विदेशी  ग्राहक कीमत ऊँची लगाते थे और माल के साथ-साथ समय की भी कीमत समझते थे। देशी  ग्राहकों की तरह वे भाव गिरने का इन्तजार नहीं करते थे।बल्कि आप यूँ भी कह सकते हैं कि वे गरम भाव का सामान खरीदना पसन्द करते थे। मीर जाफर की ही ले लो। सही समय पर सही ग्राहक के हाथ बिक गया। खुद के साथ-साथ देश को भी बेच दिया कि नहीं ? बस, कीमत सही लग गई थी। अब इतनी ऊँची कीमत कोई देशी डोम तो देने से रहा। आज मीर जाफर का भी नाम इतिहास में अमर है कि नहीं ? नियमतः तो अंगरेज बहादुर को उसके जन्मदिन पर छुट्टी रखनी चाहिए और उसकी जन्मशती  मनानी चाहिए।''


मुझे लगा कि बोधनदास जी भी अब मेरे ही ट्रैक पर आ रहे हैं क्योंकि उनका स्वर व्यंग्यात्मक हो रहा था। मीर जाफर जैसे लोगों की बिक्री से वे भी आहत हैं। अब वे भी मान जाएँगे कि जिस तरह की मण्डी आजकल लग रही है, वह गलत है और इसपर हर देशवासी  को विक्षुब्ध होना ही चाहिए। प्रकारान्तर से यह मेरे पक्ष की जीत है और मैं चाहता भी यही था। परन्तु ऐसा कुछ भी नहीं हुआ और बोधनदास जी बढ़ते ही गए। आगे उन्होंने जारी रखा, ''और तुम्हें पता है कि यह परम्परा अभी भी जारी है। पहले तो एक ही मीर जाफर था, अब गिनती से परे हैं। कितने ही 'जिम्मेदार नागरिक' सेना और सुरक्षा की गोपनीय जानकारियाँ  मुल्क को देकर उपकृत करते रहे और उपकृत होते रहे, तब तो तुम यह रोना कभी नहीं रोए कि आदमी बिका जा रहा है। दरअसल तुम बिक्री से आहत नहीं हो, तुम तो केवल विक्रयमूल्य से आहत हो। इन 'मीर जाफरों' की कीमत गोपनीय रही इसलिए तुम्हारा ध्यान गया ही नहीं ! आज जब एक खिलाडी  दस करोड  में बिक गया तो यह कीमत तुमसे हजम ही नहीं हुई ! ये तो कम से कम डंके की चोट पर नीलाम हो रहे हैं। मैंने पहले ही याद दिलाया कि दुनिया एक बाजार है और बिकने खरीदने का काम तो यहां चलता रहेगा। रह गई आदमी की बात तो वह तो सबसे बड़ा  बिकाऊ माल है।''

अब मुझे अपनी पराजय बहुत निकट लगने लगी क्योंकि बोधनदास जी के तर्कों की काट मुझे कहीं भी नहीं मिल रही थी। मन ही मन मुझे अपनी गलती महसूस होने लगी थी। फिर भी मैंने मन मारकर आखिरी वार किया, ''अंकलजी, आपने तो थोड़ी  ज्यादा ही फिलॉसफी झाड  दी। माना कि कभी-कभी ऐसी स्थिति आ सकती है कि आदमी को बिकना पड  जाए। मजबूरी की बात अलग है। कई तो अपना पेट भरने के लिए बिकते हैं, कुछ ऐसे हैं जो अपने किसी सगे-सम्बन्धी की दवा-दारू के लिए बिकने को तैयार हो जाते हैं। कुछ मजनूं  टाइप के लोग 'प्यार' पर भी न्योछावर होकर मण्डी में बिकने आ जाते हैं। परन्तु एक अच्छे-खासे, खाते-पीते सुखी इंसान को बिकने की क्या जरूरत है? आपको नहीं लगता कि यह सब नैतिक पतन के कारण हो रहा है? इसके विरुद्ध समाज में आवाज नहीं उठनी चाहिए ?''बोधनदास जी बोले, ''श्रीमान राढ़ी साहब, किसी की जरूरत  निश्चित  करने का अधिकार आपको किसने दिया? बिकने वाले खुद को बेचने की आवश्यकता  समझते हैं, तभी बिकते हैं। हाँ, इतना अवश्य  है कि रेट बिकने वाले की आवश्यकता  के स्तर से ही तय होते हैं। प्रश्न  यह है कि आप स्वयं को किस उद्देश्य  के तहत बेच रहे हैं? यदि आपकी आवश्यकता छोटी और घटिया है तो आपका रेट भी कम लगेगा। यदि आप भूखे हैं और खुद को रोटी के लिए नीलाम कर रहे हैं तो आपकी बोली भी रोटी की ही लगेगी। फिर आपका यह सोचना कि आपका भी भाव दस करोड  हो जाए, नामुमकिन होगा। दवा-दारू के लिए खुद को बेच रहे हैं तो कीमत भी उसी हिसाब से तय होगी। अगर आप एक सुखी, वैभव शाली  या फाइव स्टार जीवन की कल्पना करके बाजार में खड़े  हैं तो कीमत भी फाइव स्टार की होगी। राढ़ी जी, देह का व्यापार बहुत पुराना है। इसी बाजार में एक देशी , कमसिन किन्तु हिन्दीभाषिणी  नवयौवना का सुगठित शरीर  दस-बीस रुपए में बिकता है क्योंकि वह रोटी का लक्ष्य लेकर पैदा होती है और इतने के लिए ही मण्डी में आती है; वहीं एक अर्धनग्न, बुढि या सी अंगरेजीभाषिणी  रुपए में नहीं डॉलरों में बिकती है। उसकी आवश्यकता रोटी से कहीं ऊपर उठ चुकी है। उसे आत्मज्ञान हो चुका है, यानी वह अपने शरीर  और बाजार की कीमत जानती है। अब आप स्वर्णबाजार छोड कर शाक बाज़ार  में घूमेंगे तो आपकी कीमत तो शाक -भाजी की ही लगेगी न?

 ''फिर आज के बाजार में माल से ज्यादा रैपर की कीमत है। इस सत्य को जो नहीं पहचानेगा, वह रोटी के भाव ही बिकेगा। हिन्दी रैपर की चीज सस्ती बिकती है। इसके ग्राहकों की क्रय क्षमता और भावग्राह्यता ही कम होती है। वही शरीर अंगरेजी रैपर में लपेट दिया जाए तो फाइव स्टार श्रेणी का हो जाता है और कई बार तो एक्सपोर्ट क्वालिटी का भी हो जाता है। अंतर्राष्ट्रीय  बाजार का भाव तो तुम्हें पता ही है। यह भी जानते ही होगे कि क्रिकेट का रैपर कितना शानदार  है। अब तुम हॉकी या कबड्‌डी को ले लो। रैपर देशी  है, ये रोटी के भाव भी नहीं बिकेंगे। हाँ, हम लोग किसी भाव नहीं बिक सके क्योंकि हम डिस्प्ले पर थे ही नहीं, स्वयं को कभी माल समझे ही नहीं। अब तो बस बाजार देखते जाओ और इसे एक मनोरंजन मानते रहो।''
मैं जैसे जमीन पर आ चुका था। आँखों के सामने वे सारे दृश्य घूम गए जब मैं बिक सकता था। बोधनदास एक विजयी योद्धा की भांति मुझे व्यर्थ का जीवनदान देकर जा चुके थे और मेरे मन में समस्त प्रश्नों  का एकमात्र निचोड़ घूम रहा था- हाय, हम क्यों ना बिके ?



Wednesday, 8 August 2012

hai hum kyon na bikey

व्यंग्य                      

                   हाय, हम क्यों न बिके ?

                                                                 - हरिशंकर  राढ़ी

(यह व्यंग्य 'समकालीन अभिव्यक्ति' के जनवरी-मार्च २०१२ अंक में 'वक्रोक्ति' स्तम्भ के अंतर्गत प्रकाशित   हुआ था।)
 
मैं शाम  की चाय का सुख लेने ही जा रहा था कि बोधनदास पधार गए। वे मेरे अज़ीज़  और अजीब पडोसी  हैं और अक्सर पधारते ही रहते हैं। आप एक सरकारी महकमे से सेवानिवृत्त हो चुके हैं, इसलिए दुनिया का सर्वोत्तम व्यावहारिक ज्ञान रखते हैं। ऐसे समय पर आते हैं कि चाय भी मिल जाए और समय भी कट जाए। इसके बदले वे अपना उपदेश  रूपी ट्यूशन पढ़ा  जाते हैं, ऐसा माना जा सकता है। मेरा भभका हुआ किन्तु निराश  सा चेहरा देखकर वे अपने कर्तव्यपथ पर आ डटे। शायद उन्हें एहसास हो गया कि कोई जोर का झटका लगा है। 

बोधनदास जी बिना किसी औपचारिकता के सामने वाली कुर्सी को सुविधानुसार व्यवस्थित करके जम गए। छूटते ही बोले,'' भाई क्या बात है? बेवक्त ही चेहरे पर बारह क्यों बज रहे हैं ? क्या हो गया ? घर में सब ठीक तो है ?'' मन में आया कि कह दूँ कि आप जैसे लोगों ने ही तो देश  का बेडा गर्क कर रखा है ! 'घर' से बाहर न निकलने की तो जैसे कसम ही खा ली है। सारा जीवन अपने और अपने घर के बारे में ही तो सोचते रहे। घर के बाहर तो मानो कोई दुनिया ही नहीं। फिर भी मैं प्रतिक्रियाशून्य  रहा। मेरी भाव शून्य  स्थिति से मेरा भाव  बढ़ा । इस बार उन्होंने वॉल्यूम बढाया , ''अरे भाई राढ़ी साहब, बात क्या हुई? कुछ बताओ तो सही ! कोई विशेष  घटना तो नहीं हो गई ?''

 ''अरे होना क्या था ? टीवी देखा आपने आज ? जानते हैं क्या हुआ, वो अपना ढिमाके बल्लेबाज पूरे दस करोड  में बिका है आज आइ.पी.एल.में ! पूरे दस करोड .....! क्या हाल बना रखा है इस देश  का ? रोटी-दाल, नून-तेल और यहाँ तक कि पानी का बिकना भी मान लिया; पर अब आदमी भी बिकने लगा यहाँ !'' मैं जैसे बिफर गया ।

बोधनदास जी हल्का सा मुस्कराए, जैसे कितने बड़े सुलझे हुए सूफी-संत या महात्मा हों। मेरे प्रश्न  एवं मेरी बेचैनी में उन्हें कोई दम ही नहीं दिखा। सारी समस्या जैसे उपेक्षित करते हुए बोले, ''बै यार, यह भी कोई बात हुई ? ये सब तो चलता ही रहता है। मैंने पहली बार किसी को टीवी की खबर देखकर इतना दुखी होते देखा है। मैं तो यही मानता था कि टीवी-सीवी का कोई असर ही नहीं होता। अब चाय-साय मंगाओ और कहीं घूमकर आते हैं।'' चिढ़ा  तो मैं पहले से ही था, अब और चिढ  लग गई। कोई है ही नहीं इस  देश में जो  देश के बारे में, गरीबों के बारे में, यहाँ की असमानता और उलटे अर्थशास्त्र  के बारे में सोचे ! गरीब का घर जले और गुंडे हाथ सेंकें । 
 
''आपको पता भी है कि कितनी-कितनी बोली लगी है आज ? खिलाड़ी  ऐसे नीलाम हो रहे थे जैसे कोई प्लॉट हों या फिर कोई जानवर। ना जाने क्या होगा इस  देश का ? आप पर तो कोई फर्क ही नहीं पड ता !'' मैंने उन्हें खा जाने वाली नजर से देखा।

अब वे गंभीर हो गए। बोले, ''तो तुम्हें क्या लगता है कि यहाँ आदमी आज पहली बार बिका है ? इससे पहले आदमी यहाँ बिकता ही नहीं था ? आज टीवी पर दिख गया तो तुम्हें भी पता लग गया, वरना तुमने यह मान लिया था कि ऐसा यहाँ कुछ होता ही नहीं था? आदमी बिका कब नहीं है ?''

इस बीच धर्मपत्नी चाय दे गई। दोनों ने शांतभाव  से चाय सुड़की, शायद  यह सोचते हुए कि अगला हमला कैसे करना है और हमले का जवाब कैसे देना है। अब गेंद मेरे पाले में थी। चाय के दौरान बोधनदास के जवाब से मेरी अकल भी कुछ ठिकाने आ चुकी थी। पर हारना मैं भी नहीं चाहता था, इसलिए एक बुद्धिजीवी की भांति तर्कशास्त्र  पर उतर आना जरूरी हो गया था। बोधनदास की बात में कुछ वजन था क्योंकि हर न समझ में आने वाली बात में कुछ वजन माना जाता है। मुझे लगा कि उनकी बात  थोड़ी -बहुत तो मान ही लेनी चाहिए। अब मैं कोई वकील तो हूँ नहीं कि दूसरे की बात मानी तो अपनी जाति धर्म और पेशे  से गया ! सो बोला, ''भाई, बात तो आपकी सौ फीसदी सही है, पर इस बार तो हद ही हो गई ! एक बन्दा अपने ठुक्क-ठाँय के खेल के लिए पूरे दस करोड  पा रहा है और एक है कि खुद को बेचकर नून-तेल-लकड़ी  जुटाने को तैयार है पर कोई ग्राहक ही नहीं है। क्या नीलामी हो रही है ! एक-एक खिलाडी  बिका जा रहा है। अंगरेज कट लोग बोली लगाए जा रहे हैं। कोई दस करोड  में तो कोई पाँच करोड  में। गोया मण्डी लग रही हो और आदमी आदमी न होकर ढोर-ढंगर हो। जो ज्यादा ऊँची बोली लगाए, हाँक ले जाए। दूसरी तरफ देखिए तो एक आबादी इतनी बड़ी  है जो सचमुच में ढोर-ढंगर की तरह ही जी रही है।''

बोधनदास जी पुनः मंद-मंद मुस्कराते हुए या यों कहें कि मेरे ऊपर कुछ दया सी दिखाते हुए बोले, ''भाई, इसमें इतना इमोशनल  होने या क्रान्तिकारी होने की कोई आवश्यकता  मुझे तो दिखती नहीं। किसने कहा गरीबों को पैदा होने के लिए? और पैदा भी होना था तो यही एक  देश मिला था? अब पैदा हुए तो भुगतो ! खिलाड़ी ऊँची कीमत पर बिक रहे हैं तो तुम्हें किस बात की जलन ? जब यही खिलाडी  मैच जीतते हैं तो तुम भी बादशाह  बन जाते हो। तब तो ऐसा लगता है कि पटाखे और मिठाइयाँ फ्री के आ रहे हैं। उस दिन तो तुम दिहाड़ी  भी छोड  देते हो। पडोसी  मर भी गया हो तो उसके  लिए शमशान  तक नहीं जा सकते और मैच चल रहा हो तो सी.एल.- ई.एल.सब ले डालते हो। जब भाव बढाया  है तो बन्दा तो बिकेगा ही। यही क्या कम है कि कोई तो ऊँची कीमत पर बिका ! वरना यहाँ आदमी की कीमत है ही कितनी? जहां तक बिकने की बात है, तो बिकना कौन  नहीं चाहता है? ग्राहक ही न मिले तो खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे!''
 
मुझे लगा कि बोधनदास जी के भी मर्म पर चोट लगी है। बिकना चाहते रहे होंगे पर बिके नहीं होंगे, सो सारा गुबार आज निकाल दे रहे हैं । सरकारी मुलाजिम वैसे ही रहे हैं; क्या भरोसा ? मैं पूरी तरह सहमत नहीं हुआ उनके तर्क से। गुस्सा भी आया किन्तु गुस्से को हलक से नीचे उतार कर वितृष्णा  के स्वर में बोला, ''नहीं साहब, ऐसा नहीं है। हर आदमी बिकने वाला नहीं है। मैं बड़ों  की बात तो नहीं जानता, पर जिन्हें आप गरीब कह रहे हैं वे तो कतई नहीं बिकते। एक वे ही तो हैं जिनके अन्दर आत्मा बची हुई है और जो भगवान से डरते हैं। वैसे भी इस  देश में ऐसे-ऐसे महान लोग हुए हैं जिन्हें दुनिया की कोई ताकत नहीं हिला सकी है। धन की क्या बिसात है जो उन्हें खरीद ले?''

इस बार भी बोधनदास जी ने पूर्व की भांति ही मेरे ऊपर तरस खाने का भाव बनाया। स्वर में थोड़ा दर्द डाला और बोले, ''अरे भाई राढ़ी , तुम रहते किस दुनिया में हो ? बिकना कौन नहीं चाह रहा और बिकने का आत्मा से क्या लेना-देना ? ये तो सारी दुनिया ही एक बाजार है, मेला है; ऐसा संतों ने कहा है। आज के सत्संगी संतजन भी यही कह रहे हैं। जब उन्हें दुनिया बाजार नजर आती है तो तुम कौन हो संदेह खड़ा  करने वाले ? भाई मेरे, जहाँ जिन्दगी और मौत सरेआम बिकती है वहाँ आदमी बिक गया तो कौन सी आफत आ गई ? लोग तो यहाँ देश  सहित बिकने को तैयार हैं, बस अवसर और ग्राहक चाहिए ।''
(शेष अगली किश्त  में ......)

Sunday, 15 July 2012

बाइट प्लीज (उपन्यास भाग-5)


8.             
रांची के सफर पर नीलेश पहली बार निकला था। बिहार के बटवारे के पहले वह हजारीबाग में सेंट कोलंबस कालेज के ठीक बगल के एक रिहायसी इलाके में रह चुका था । वहां की जंगलों, झाड़ों और खुले मैदानों ने उसे खासा आकर्षित किया था। जंगलों में अकेले दूर तक भटकना उसे अच्छा लगता था। जब सुकेश से उसकी रांची चलने की बात हुई थी, उसने यात्रा के लिए सबसे पहले बस को ही चुना था। एक रात की दूरी वाली यात्राओं के लिए वह अक्सर बस को ही पसंद करता था। बस के सफर में पूरी रात उसे सोचने का मौका मिल जाता था, यदि कोई साथ में सफर कर रहा हो तो, बातचीत का मौका भी।
सुबह परिवहन भवन से बस की टिकट लेने के बाद रात में दोनों बिहार परिवहन विभाग की एक बस में सवार में थे। बस सरपट रांची की ओर दौड़ रही थी, हवाओं के तेज झोंके बस के आरपार हो रहे थे, क्योंकि खिड़कियां खुली हुई थी। नीलेश बस की अंतिम सीट पर आराम से लेटा हुआ था, उसके ठीक आगे वाली सीट पर साइड में सुकेश बैठा हुआ था। रात हो चली थी, सड़कों पर आगे और पीछे तेजी से भागती हुई गाड़ियों की लाइटें दिख रही थी और कभी-कभी उनके कानों में हार्न की तीखी आवाजें भी टकराती थी। इन आवाजों और बस की तमाम शीशों पर टकरा करके रिफ्लेक्ट करती हुई लाइटों के बीच दोनों बाते करने में तल्लीन थे।           
तुम रांची ज्वाइन करोगेमैं तो नहीं कर पाऊंगा, ”, सामने की ओर देखते हुये सुकेश ने कहा।
तो फिर हमलोग रांची जा क्यों रहे हैं, काम तो करना है बिहार  में ? ” नीलेश ने सवाल किया।
फिलहाल चल कर घूम लेते हैं, बिहार के लिए बात बनी तो बनी, नहीं तो देखते हैं क्या होगा। बिहार से बाहर मेरा बाहर काम करने का सवाल ही नहीं है, और सच पूछो तो तुम पर मैं यकीन ही नहीं करता हूं, कब क्या करोगे इसका किसी को पता नहीं होता है, माहुल भी यही बात कह रहा था कि तुम्हारी गारंटी कौन लेगा ? मैंने उन्हें विश्वास दिलाया है कि अब तुम समझदार हो गये हो, उन्मादी हरकत नहीं करते हो।
सुकेश की नजर अभी भी सामने की तरफ ही थी, जबकि नीलेश अंतिम सीट पर मस्ती से सीट पर लेटा हुआ था। सुकेश के अंतिम वाक्य पर उसका दिमाग थोड़ी देर के लिए रुक गया और फिर अचानक उठकर बैठते हुये अपना चेहरा सुकेश की तरफ बढ़ाते हुये पूछा, उन्मादी हरकत मैंने कब की? ”
देखो कैसे लड़ने के लिए तैयार हो गये। तुम्हारे जानने वाले सभी लोग यही कहते हैं कि तुम लड़ने- भिड़ने के लिए हमेशा तैयार रहते हो और इस मामले में थोड़े रिस्की हो।
हां लड़ता हूं, लेकिन कोई यह नहीं कह सकता कि मैं गलत बात के लिए लड़ता हूं और अब तो मैं पूरी तरह से लाजिकल हूं...किसी को गाली नहीं देता।   
तभी तो तुम ज्यादा रिस्की हो, माहुल भी यही कह रहा था कि तुम्हारी बाते लाजिकल होती है.
मैं सिर्फ इतना जानता हूं कि मुझे राजनीति करनी नहीं आती। सीधा और सपाट बोलता हूं, बुरा लगे तो मेरी बला से। वैसे भी पत्रकार होने के नाते बोलने की आजादी तो मैंने हासिल कर ही ली है और इस देश में बोलने का अधिकार तो हर किसी को मिला हुआ है, भारतीय संविधान की धारा 19  ए के तहत। वैसे जब तुमने मेरी गारंटी ले ही ली है तो एक बाद जरूर करूंगा, मैं इस संस्थान में किसी से लड़ूंगा नहीं। 
मैंने कहा ना मुझे तुम पर यकीन नहीं है, हां मुझे अपने आप पर यकीन है कि मैं तुम्हें लड़ने नहीं दूंगा। बस एक बात का ख्याल रखना जब भी किसी से लड़ने की बात हो बस एक बार मुझसे राय जरूर ले लेना। मैं तुम्हें लड़ने से नहीं रोकूंगा, तुम्हें कोई भी नहीं रोक सकता है। मेरी बात सुनने के बाद यदि तुम्हारी इच्छा करे तो तुम जरूर लड़ लेना।
अव्वल तो लड़ने की नौबत ही नहीं आएगी और यदि आ भी गई तो मैं अपना मुंह बंद रखूंगा, हालांकि मेरे लिए यह मुमकिन नहीं है। जब तुम्हारे सामने कुछ ऐसा हो रहा हो जो कहीं न कहीं इन्सानियत की हत्या कर रहा हो तो भला तुम कैसे चुप रह सकते हो? यदि चुप रहते हो तो यकीनन तुम एक ठिठके हुये इंनसान हो। अपनी बात तो हर हालत में कहनी ही चाहिये, अब मानना या न मानना सामने वाले की इच्छा पर है।
संजना का फोन आया था,
कौन संजना? ”
 अब ये भी बताना पड़ेगा कि कौन संजना?“
मंडी हाउस वाली?”
तुम पर काफी गुस्सा थी। कह रही थी किसी लड़की के साथ तुम घुम रहे थे और उसको देखकर तुमने उस दिन उसको पहचाना तक नहीं। फिर दूसरे दिन उससे मुलाकात हुई और तुमने उसे हैलो कहा तो उसने तुम्हारी अच्छी खासी खबर ली।
हां मैंने ऐसा किया था। वह सच कह रही थी।
वह यह भी बता रही थी कि वह लड़की काफी खूबसूरत थी। कौन थी वह? ”
कोई थी, रास्ता में हमलोगों को खाना भी पड़ेगा, सुकेश के सवाल से बचते हुये नीलेश ने बात की दिशा मोड़ दी। हालांकि बातों ही बातों सुकेश ने नीलेश के जीवन के उन पन्नों को छू लिया था, जो कोमल भावों से लबरेज थे, जिनमें तीखी नोकझोंक थी, जिनमें हद से गुजर कर किसी को चाहने की महक थी।
रास्ते में किसी लाइन होटल पर बस रूकेगी ही, वहीं खा लेंगे।
दोनों के बीच खामोशी छा गई, नीलेश के जेहन में शीलू की यादें ताज हो गईं। बस अपनी रफ्तार से आगे बढ़ती जा रही थी और नीलेश की आंखों के सामने शीलू का चेहरा घूम रहा था। ब्लू जिन्स पर खादी का कुर्ता और कंधे पर खादी का लटकता हुआ एक थैला, बड़े ललाट और ज्ञान की रोशनी से चमकती हुई आंखे पहली नजर में ही टिपिकल पत्रकार लगती थी शीलू।      

9.
नीलेश की शीलू से पहली मुलाकात दिल्ली में आईएनएस बिल्डिंग के ठीक सामने हुई थी। नीलेश अपने कुछ पत्रकार मित्रों के साथ बातें करने में मग्न था। सिगरेट और चाय का दौर साथ-साथ चल रहा था। तभी शीलू प्रेस फोटोग्राफर रमन के साथ उसकी मोटरसाइकिल पर पीछे बैठकर पहुंची। रमन ने शीलू का परिचय कराते हुये कहा था, यह बिहार की रहने वाली है। दिल्ली में पत्रकारिता कर रही है। सुबह से शाम तक खबरों के पीछे दौड़ती रहती है। खबरों के अलावा इसे और कुछ सूझता ही नहीं है। नीलेश की तरफ इशारा करते हुये उसने कहा था, अपना नीलेश भाई भी बिहार का ही रहने वाला है। यह भी हमेशा खबरों के पीछे ही पड़ा रहता है। खोजी खबरे इसकी कमजोरी है। मुझे लगता है कि तुम दोनों की आपस में अच्छी पटेगी।
शीलू की नजर नीलेश के पैंट की चैन पर टिकी हुई थी, जो खुला हुआ था। उसने मुस्कराते हुये रमन से कहा था, इनका चैन तो खुला हुआ है, खुद के प्रति कितने लापरवाह हैं इसी से पता चल जाता है। हालांकि मेरा मानना है कि जो लोग खुद के प्रति बेख्याली में रहते हैं, वे खबरें अच्छी तरह से पकड़ लेते हैं। शीलू की इस बात पर वहां मौजूद सभी लोग ठहाका मार कर हंसने लगे थे, और नीलेश कुछ झेंप सा गया था।
बाद में खबरों के सिलसिले में ही नीलेश की शीलू के साथ कई बार मुलाकत हुई थी। प्रेस कांफ्रेन्स में दोनों अक्सर टकरा जाते थे। अपने अखबार के लिए शीलू महिला आयोग की खबरों को कवर करते हुये हर रोज यह कोशिश करती थी कि महिलाओं से संबंधित कुछ एक्सक्लूसिव स्टोरी उसके हाथ लग जाये।
एक दिन तो महिला आयोग के दफ्तर के सामने हद ही हो गई थी। दो महिलाएं आयोग के दफ्तर के सामने ही एक पुरुष की चपलों से ताबड़तोड़ पिटाई कर रही थीं। नीलेश किसी काम से जैसे ही महिला आयोग के कैंपस में दाखिल हुआ उसकी नजर शीलू पर पड़ी, जो इस पिटाई को बड़े आराम से देख रही थी। नीलेश शीलू के बगल में आकर खड़ा हो गया था। उस व्यक्ति की पिटाई के दौरान ने नीलेश ने एक महिला से पूछा, अरे आप लोग इसे क्यों धुन रहे हो?”
मैं इसकी पत्नी हूं, दो साल तक हमदोनों का प्रेम चला और फिर शादी कर ली। शादी के बाद पता चला है कि यह किसी काम का नहीं है....साला नपुंसक है।
दो साल तक आप लोगों का प्रेम चला तो इसने आपको कुछ करने की कोशिश नहीं की ? ”,नीलेश ने बेबाकी से पूछा था।
नहीं, उस महिला ने जवाब दिया था।
तभी आपको समझ जाना चाहिये था, यह किसी काम का नहीं है। दिल्ली में दो साल तक प्रेम चले और लड़का कुछ न करे, मतलब साफ है कि लड़के में कुछ गड़बड़ी है। फिर उसने बगल में खड़ी शीलू की ओर देखते हुये पूछा था, क्यों शीलू तुम्हारा क्या ख्याल है? वैसे मुझे लगता है कि आज तुम्हारे हाथ एक एक्सक्लूसिव स्टोरी लग गई है, उसके बेबाकी पर शीलू मुस्कराने लगी थी।
धीरे-धीरे शीलू नीलेश के साथ पूरी तरह से खुल गई थी। छुट्टी के दिन लक्ष्मी नगर स्थित नीलेश के कमरे पर भी आती थी। दिल्ली में रह कर पत्रकारिता के क्षेत्र में मुकाम हासिल करने की इच्छा से लबरेज बिहार के बहुत सारे युवा पत्रकार उन दिनों लक्ष्मीनगर में ही रहे रहे थे। नीलेश के पास सिलेंडर और चूल्हा हुआ करता था, इसलिये सुबह के चाय और नाश्ते के लिए कमोबेश उस इलाके में रहने वाला बिहार का हर स्ट्रगलिंग पत्रकार उसके यहां पहुंच जाता था। एक साथ तसीली होती थी और दूध, ब्रेड व आमलेट का इंतजाम हो जाता था। चाय नाश्ता के दौरान ही दिल्ली में उस दिन की संभावित घटनाओं पर चर्चा भी होती थी। कभीकभी रात में मटन और मुर्गा का प्रोग्राम भी बन जाता था। एक साथ मिल बैठकर खाने-पीने से उनमें सुरक्षा अहसास पनपता था।
शीलू एक अच्छी कहानीकार भी थी। पटना में पत्रकारिता के दौरान उसने बहुत सारी कहानियां लिखी थी। कुछ कहानियां पटना से निकलने वाले छोटे और मझौले अखबारों में छपे भी थे, लेकिन एक मुक्कमल कहानीकार के तौर पर उसकी पहचान नहीं बन सकी थी। पटना में पढ़ाई के दौरान ही उसने रिपोर्टिंग भी शुरु कर दी थी। इसी दौरान बिहार में लालू के नेतृत्व में पिछड़ावाद का तेजी से प्रादुभाव हुआ और देखते ही देखते यहां की फिजा बदलने लगी। शीलू को जल्द ही इस बात का अहसास हो गया था कि बिहार के इस बदलते माहौल में आम परिवार की एक लड़की के लिए पत्रकारिता कर पाना कठिन है। घरवालों की मानसिकता बिहार में एक लड़की को पत्रकारिता में भेजने के खिलाफ थी। काफी सोचने और विचारने के बाद शीलू ने दिल्ली प्रस्थान करने का निर्णय लिया था, हालांकि उसके निर्णय से घरवाले सहमत नहीं थे। घर वालों की यही इच्छा थी कि शीलू शादी करके अपने घर गृहस्थी पर ध्यान दे, लेकिन तमाम विरोधों के बावजूद वह पत्रकारिता की राह पर चलने के लिए अडिग थी।
शुरुआती दौर में दिल्ली में उसे कई बार कटू अनुभवों से गुजरना पड़ा था। एक साहित्यिक पत्रिका में काम करने के दौरान उस पत्रिका के प्रबंधक ने तो शीलू को अपने साथ बाहर टूर पर चलने तक का निमंत्रण देते हुये यहां तक कह दिया था, तुम अकेली हो, जवान हो। अपनी जरूरतों की पूर्ति कैसे करती हो। यदि तुम चाहो तो मैं तुम्हारा सारा खर्च उठाने के लिए तैयार हूं। उस रात शीलू अपने कमरे में आकर घंटों रोई थी। वह तत्काल नौकरी छोड़ देना चाहती थी, लेकिन उसे पता था कि इसके पास घर का किराया देने तक के पैसे नहीं होंगे। चूंकि वह दिल्ली घर वालों के इच्छा के विरुद्ध आई थी, ऐसे में घरवालों की ओर से किसी भी तरह की मदद की उम्मीद करना फिजूल था। रात भर वह भगवान से यही प्रार्थना करती रही कि किसी भी तरह उसे कोई अच्छे से अखबार में नौकरी मिल जाये। शायद ईश्वर ने उसकी प्रार्थना सुन ली थी। राजधानी से निकलने वाले लगभग सभी अखबारों में उसने अपने बायोडाटा डाल रखा था। अगले ही दिन एक बड़े अखबार से उसे इंटरव्यू के लिए कौल आ गया था। अखबार का संपादक सुलझा हुआ एक उम्रदराज व्यक्ति था। स्टिंगर के पद पर उसने शीलू को तत्काल नियुक्त कर दिया। शीलू ने जमकर मेहनत की और संपादक के साथ-साथ संस्थान की नजर में अपने लिए एक मजबूत जगह बनाने में कामयाब रही। छह महीने के बाद ही उसे उसी अखबार में रिपोटर बना दिया गया था। अब शीलू दिल्ली के पत्रकारिता जगत और बुद्धिजीवी हलकों में अपना जगह बनाने के लिए दिन रात मेहनत कर रही थी।
धीरे-धीरे नीलेश शीलू की तरफ आकर्षित हो चला था। एक रात जब शीलू नीलेश के साथ उसके कमरे में बैठी हुई थी तो नीलेश ने मौका देखते हुये कहा था, शीलू, तुम मेरी बातों का बुरा मत मानना। मुझे लगता है कि मैं तुमसे प्यार करने लगा हूं। उसे यकीन था कि शीलू उसके प्रस्ताव को स्वीकार कर लेगी। लेकिन नीलेश के मुंह से यह सब सुनकर शीलू के चेहरे पर दर्द के भाव उभर आये थे। उसने नीलेश की आंखों में देखते हुये कहा था, नीलेश, तुम मेरे बहुत अच्छे दोस्त हो और मैं इस दोस्ती को खोना नहीं चाहती हूं। सो प्लीज आज के बाद ऐसी बात मुझसे नहीं करना। मुझे पता है मैं एक लड़की हूं। अब तक कई लोग मुझे प्रोपोज कर चुके हैं। मैं अपनी नजरों में खुद को प्रूफ करना चाहती हूं। घरवालों को अपने ऊपर उंगली उठाने का मौका देना नहीं चाहती। अभी मेरे जीवन में प्यार के लिए कोई स्थान नहीं है। फिलहाल पत्रकारिता की दुनिया में मैं अपने लिए एक जगह बनाना चाहती हूं। इसके लिए मैंने अपने घर और परिवार को भी छोड़ रखा है। उम्मीद है तुम मुझे समझोगे और फिर कभी ऐसी बात नहीं करोगे। नहीं तो मैं तुमसे मिलना भी छोड़ दूंगी।
उस दिन के बाद से नीलेश ने फिर कभी अपनी भावनाएं उस पर जाहिर करने की कोशिश नहीं की थी। 
चलो कुछ खा लिया जाये,, सुकेश की बात सुनकर नीलेश का ध्यान भंग हुआ। बस एक लाइन होटल के सामने खड़ी थी। बिना कुछ बोले नीलेश सुकेश के पीछे हो लिया।
जारी....