Thursday, 16 June 2011

जनतवा का जिउ सांसत में है!

अ से अन्ना हज़ारे क से काला धन ग से गंगा


द से दिग्गी राजा

न से निगमानंद

ब से बयानबाजी

भ से भ्रष्टाचार र से रामदेव

भौत रट लिए यार ये सब. इन सबके बीच में

ख से खाना भ से भूख म से महंगाई ब से बढ़ते ब्याज दर

ई सब भी होते हैं. कौनो नामे नईं ले रहा है इनका................ बताओ न, का किया जाए???????????????????????????????????????????????????????????????????????
??????????????????????????????????????????????????????

7 comments:

  1. आ से आशा, बस वही सीख रहे हैं।

    ReplyDelete
  2. योग से भ्रष्टाचार मिटाने का समाधान ढूँढना अप्रत्याशित सा लगता है . तथापि इसे आजमाने में कोई बुराई भी नहीं. जब मर्ज़ हद से गुज़र जाता है तो टोने - टोटके तक आजमाने पड़ जाते हैं. इस घोर कलयुग में भ्रष्टाचार से निपटने के लिए एक बाबा को उतरना पडा ? बाबा रे बाबा ??????????????

    ReplyDelete
  3. ला से लोभ है लाभुकों को

    और क्ष से क्षोभ बचा है जनता के लिए.....

    लेकिन क से करे क्या जनता ,इसके नहीं है सूझ...

    ReplyDelete
  4. इष्ट देव जी की ये रचना अप्रतिम है...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  5. श्री प्रवीण पाण्डेय जी सही कह रहे हैं.

    ReplyDelete
  6. क का कि की कु कू के कै को कौ कं क:…।

    स से समस्या ग से गम्भीर है।

    ReplyDelete

सुस्वागतम!!