Tuesday, 8 February 2011

मेरी पहली सरस्वती वंदना .....


मेरी पहली सरस्वती वंदना
---------------------
वर दे, वीणावादिनि वर दे।
प्रिय घोटालेबाजी नव, झूठ फरेब मंत्र हर मन में भर दे।

काट अंध सच के बंधन स्तर
बहा धन के नित नव निर्झर
ईमानदारी हर बस घोटाले भर
घोटाले ही घोटाले कर दे।
चहुँदिश होंवें कलमाडी सर,
कंठ कंठ हों घोटाले स्वर
राजा हों या प्रजा जी हों
सबको घोटालेबाज कर दे।

4 comments:

  1. आप किस पार्टी के प्रवक्ता हैं?

    ReplyDelete
  2. सही कहा...पीड़ित व्यथित ह्रदय और क्या कामना करे....

    सटीक सार्थक व्यंग्य...

    ReplyDelete
  3. यह डिपार्टमेंट तो कभी रहा नहीं वीणावादिनी के पास.

    ReplyDelete

सुस्वागतम!!