Tuesday, 18 January 2011

लाल चौक पर तिरंगा...


श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा लहराने से उमर की आपत्ति बेमानी है. घाटी का माहौल ख़राब होने का हौव्वा खड़ा कर वो अपनी नालायकी और नाकारापन ही दर्शा रहे हैं. क्यों नहीं वो खुद आगे आकर कहें कि आओ मैं भी सबके संग लाल चौक पर तिरंगा लहराऊंगा...!!!
-अनिल आर्य

5 comments:

  1. बस हरामजदगी है -बस कुर्सी से चिपके रहना चाहते हैं नालायक !

    ReplyDelete
  2. bhai jo log tirnge ki baat kr rhe hen kya voh tirnge ko dil se maante hen kyaa voh tirnge ka dil se smman krte hen jo apna jhndaa dusraa bnaana chahte hen jo apna desh dusraa bnanaa chaahte hen agr voh tirnge ki baat kren to yeh tirnge ka apmaan he yeh log pehle khud ke girebaan mne jhaank len or desh ke qaanun or snvidhaan ki paalnaa men chlenge desh ki adaalton ke aadesh maanege iski khuli ghoshna kren aek kshmir ka laal chok to kiya puraa desh tirnge se sj jaayega kevl or kevl raajniti voh bhi tirnge ke naam pr shrmnaak bhut shrmnaak he . akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  3. दबाव झण्डा न फहराने के लिये नहीं, झण्डा फहराने के लिये हो।

    ReplyDelete

सुस्वागतम!!