Sunday, 19 September 2010

सच यही है...

सय्याद के पंजों में चमन देख रहे हैं,
बन्दर के करों में भी अगन देख रहे हैं....
(प्रो.सारस्वत मोहन मनीषी)

5 comments:

सुस्वागतम!!