Saturday, 28 February 2009

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

देव डी को एक एक्सपेरिमेंटल फिल्म कहा जा रहा है। अंग्रेजी अखबारों में फिल्म समीक्षकों ने इस फिल्म को पांच-पांच स्टार से नवाजा है, वैसे फिल्म समीक्षकों के किसी फिल्म को स्टार देने की प्रणाली पर रामगोपाल वर्मा अपने ब्लाग पर पहले ही सवाल उठा चुके हैं। देव डी के डायरेक्टर अनुराग कश्यप खुद कई बार कह चुके हैं किसी फिल्म की समीक्षा के बजाय फिल्मकार की समीक्षा की जानी चाहिये। अनुराग कश्यप की फिल्म को समझने के लिए यह जरूरी है कि अनुराग कश्यप की समीक्षा की जाये।
रामगोपाल वर्मा की फिल्म सत्या से अनुराग कश्यप भारतीय फिल्म पटल पर एक फिल्म लेखक के रूप में मजबूती से उभरे थे, और यह फिल्म कथ्य और मेकिंग के स्तर पर सही मायने में एक एक्सपेरिमेंटल फिल्म थी। रामगोपाल वर्मा ने पहली बार अपराध की दुनिया को मानवीय नजरिये से देखा था और मेकिंग में भी उन्होंने एसे शाट लिये थे, जो वास्तविक जीवन का अहसास कराते थे। अनुराग कश्यप इस टीम का हिस्सा थे, और उन्होंने लेखनी के स्तर पर इस फिल्म को शानदार मजबूती प्रदान की थी।
रामगोपाल वर्मा के स्कूल से निकलकर अनुराग कश्यप ने ब्लैक फ्राइडे बनाई थी, जो अपने कथ्य के कारण कोर्ट-कचहरी के चक्कर में फंसकर देर से रिलीज हुई थी। यह फिल्म 1993 में हुये मुंबई बम विस्फोट पर लिखी गई एक पुस्तक पर आधारित थी, जिसे पर्दे पर दिखाने के लिए अनुराग कश्यप ने काफी मेहनत की थी। फिल्मों में सिर्फ मनोरंजन से इतर किसी और चीज की तलाश करने वाले लोगों को यह फिल्म अच्छी लगी थी, लेकिन बाक्स आफिस के ग्रामर पर यह बिखरी हुई थी। इस फिल्म के मेकिंग स्टाईल में कुछ नयापन था और कुछ कुछ डोक्यूमेंटरी फिल्म स्टाईल का टच लिये हुये था। कानूनी स्तर पर विवादों में फंसने के कारण इस फिल्म के रिलीज होने में जो देरी हुई थी उसका नकारात्मक प्रभाव इस फिल्म के व्यवसाय पर पड़ा था। लेकिन अनुराग कश्यप एक डायरेक्टर के तौर पर इस फिल्म से अपनी पहचान बनाने में सफल रहे थे।
ब्लैक फ्राइडे की व्यवसायिक असफलता के बाद अनुराग कश्यप की दूसरी फिल्म थी नो स्मोकिंग। यह फिल्म बाक्स आफिस पर औंधे मुंह गिरी थी, और इस फिल्म को देखकर थियेटर से निकलते हुये लोग यह नहीं समझ पा रहे थे कि इस फिल्म को बनाने का औचित्य क्या है। अनुराग कश्यप इस फिल्म को लेकर काफी उत्साहित थे, और उन्हें पूरा यकीन था कि कंटेंट और तकनीक के स्तर पर वह इस फिल्म में जोरदार प्रयोग कर रहे हैं। इस फिल्म में प्रतीकों के माध्यम से कभी वह नाजीवादियों के डेथ कैंप को दिखा रहे थे, तो कभी बर्फीली जमीन पर स्टालिन की सैनिक शक्ति को प्रदर्शित कर रहे थे। एक स्थानीय तांत्रिक की भूमिका में परेश रावेल के माध्यम से उन्होंने हिटलर और स्टालिन के क्रमश गेस्टापो और केजीबी की कार्यप्रणाली को भी मजबूती से उकरने की असफल कोशिश की थी। अनुराग कश्यप जमीनी स्तर पर आमलोगों को क्मयुनिकेट करने में असफल रहे थे, और मनोरंजन के लिहाज से भी यह फिल्म लोगों के गले के नीचे नहीं उतरी थी। बौद्धिकता के पीछे भागते हुये अनुराग कश्यप यह भूल गये थे किसी भी फिल्म का प्रथम उद्देश्य लोगों का मनोरंजन करते हुये बाक्स आफिस पर इंटरटेनमेंट वैल्यू का निर्माण करना है। यह फिल्म एसा नहीं कर सकी, लिहाजा यह फिल्म थियेटरों पर चढ़ते ही उतर गई।
ब्लैक फ्राइडे और नो स्मोकिंग की त्रासदी से निकलने के लिये अनुराग कश्यप ने देव डी का निर्माण किया है, जिसके कथ्य में सेक्स कूटकूट कर भरा हुआ है। जिस तरह से विभिन्न अखबारों ने इस फिल्म को पांच-पांच सितारों से नवाजा है, उसे देखते हुये फिल्म समीक्षकों की भूमिका और उनकी सोंच पर भी सवालिया निशान लगने लगे हैं। समीक्षकों ने निर्देशन और पटकथा लेखन के तौर पर इस फिल्म को एक एक्सपेरिमेंटल फिल्म करार दिया है, जबकि इस फिल्म को देखने वाले अधिकतर दर्शकों का यही मानना है कि यह फिल्म टुच्चई के स्तर तक गिरी हुई है।
जिस जमाने में शरतचंद ने देवदास लिखी थी, उस जमाने में भी भारतीय साहित्य में सेक्स को विभिन्न तरीके से चित्रित करने वाले लेखकों की कमी नहीं थी। पारो और देवदास की कहानी की खासियत यह थी कि पुस्तक में पारो शुरु से लेकर अंत तक देवदास को देबू भैया कहती है। दोनों की कहानी की खूबसूरती का आधार भी यही है। शेखर एक जीवनी में शेखर और शशि के संबंधों के बहुत ही करीब है देवदास और पारो के संबंध। देवदास और पारो की प्रेम कहानी एक अव्यक्त प्रेम कहानी है, जिसे पुस्तक को पढ़ने के दौरान बहुत ही मजबूती से महसूस किया जा सकता है। प्रेम के इस स्तर को पकड़ पाने में या तो अनुराग कश्यप अक्षम हैं,या फिर सस्ती लोकप्रियता बटोरने के लिये जानबूझकर एक शानदार कथा के अलौकिक किरदारों को सेक्स की चासनी में लपेट दिया है। कथ्य के नाम पर जिस तरह से अनुराग कश्यप ने देवदास की मौलिक कहानी में फेरबदल किया है और संवादों में गंदे शब्दों का इस्तेमाल किया है उसे एक्सपेरिमेंट कहा जाना एक्सपेरिमेंट जैसे शब्द के साथ बलात्कार है।
कामुकता में डुबा हुआ देव लंदन से पारो से उसकी नंगी तस्वीर भेजने की मांग करता है, और बोल्ड पारो अपने कैमरे से खुद की नंगी तस्वीर निकाल कर गांव के कैफे हाउस से देव को ईमेल करने के लिए जाती है, पंजाब आने के बाद देव पारो को पाने के लिए जोरदार मश्कत करता है, और पारो से कुछ इंतजाम करने की गुजारिश करता है, पारो अपने एक पुरुष मित्र से उसके ट्यूबवेल की चाभी मांगती है, और उसके इंकार करने पर देव के लिए गन्ने के खेत में रजाई के साथ पहुंच जाती है, इसके पहले पारो का पुरुष मित्र देव को बता देता है कि पारो के साथ वह खूब मजा मार चुका है। गुस्सैल देव पारो पर गन्ने के खेत में ही उस वक्त भड़क जाता है, जब पारो उसके सीने के बाल से कामुक अंदाज में खेल रही होती है। देवदास के मौलिक कथ्य में जिस तरह से तोड़फोड़ किया गया है, इसके लिये एक्ट्राआर्डिनरी दिमाग की जरूरत नहीं है। मस्तराम का सस्ता साहित्य इस तरह के तथाकथित प्रयोगों से भरा हुआ है, और कथ्य के स्तर पर अनुराग कश्यप के इस टुच्चेपन को प्रयोग मानकर पांच-पांच स्टार देने वाले फिल्मी समीक्षकों की बुद्धि पर तरस ही खाया जा सकता है।
अनुराग कश्यप ने चंद्रमुखी के चरित्र को एक स्कूली लड़की के रूप में प्रस्तुत किया है, जिसका आपत्तिजनक तस्वीर निकाल कर उसका ब्यायफ्रेंड सबको मोबाईल फोन पर भेज देता है। चंद्रमुखी का शर्मसार पिता आत्महत्या कर लेता है और उसकी मां उससे मुंह मोड़ लेती है। परिस्थितिवश उसे वेश्या बनना पड़ता है। आधुनिक समाज में प्रचलित फोनिक सेक्स को चंद्रमुखी के माध्यम से खूब दिखाया गया है। पूरी फिल्म के केंद्रबिन्दू में सेक्स भरा हुआ है। यह फिल्म ब्लैक फ्राइडे जैसी मजबूत फिल्म बनाने वाले अनुराग कश्यप के गिरते हुये मानसिक स्तर का सूचक है। मनोरंजन के लिहाज से भी यह फिल्म एक खास मानसिक स्तर की मांग करती है। फिल्म के बैक ग्राउंज में गानों का खूब इस्तेमाल किया है, जो निसंदेह अच्छे बन पड़े हैं।
अनुराग कश्यप में एक बेहतर फिल्म मेकर बनने की पूरी क्षमता है, लेकिन इस क्षमता का इस्तेमाल उन्हें सकारात्मक रूप से करने की कला सीखनी होगी। एक लाजबाव फिल्म मेकर के रूप में अभी अनुराग कश्यप मीलों पीछे हैं। कलाकारों के अभिनय और तकनीक पर तो उनकी पकड़ है, लेकिन कथ्य को लेकर वह लगातार भटकते हुये नजर आ रहे हैं। देव के रूप में अभय देयोल ने बेहतर अभिनय किया है, वहां पारो और चंद्रमुखी भी स्क्रीन पर दर्शकों को अपनी सेक्सी अदाओं से आकर्षित करती है।


अथातो जूता जिज्ञासा-21

अब जहाँ आदमी की औकात ही जूते से नापी जाती हो, ज़ाहिर है सुख-दुख की नाप-जोख के लिए वहाँ जूते के अलावा और कौन सा पैमाना हो सकता है! तो साहब अंग्रेजों के देश में सुख-दुख की पैमाइश भी जूते से ही होती है. अब देखिए न, अंग्रेजी की एक कहावत है : द बेस्ट वे टो फॉरगेट योर ट्र्बुल्स इज़ टु वियर टाइट शूज़. मतलब यह अपने कष्ट भूलने का सबसे बढ़िया तरीक़ा यह है कि थोड़ा ज़्यादा कसे हुए जूते पहन लीजिए.

निश्चित रूप से यह कहावत ईज़ाद करने वाले लोग बड़े समझदार रहे होंगे. अपने नाप से छोटा जूता पहन कर चलने का नतीजा क्या होता है, यह हम हिन्दुस्तानियों से बेहतर और कौन जानता है. यह अलग बात है कि यह कहावत अंग्रेजों ने ईज़ाद की, लेकिन नाप से छोटे जूते पहन कर चलने की कवायद तो सबसे ज़्यादा हम भारतीयों ने ही की है. हमने चपरासी के लिए तो शैक्षणिक योग्यता निर्धारित की है, लेकिन प्रधानमंत्री बनने के लिए आज भी हमारी मुलुक में किसी शैक्षणिक योग्यता की ज़रूरत नहीं है. यह हाल तब है जबकि आजकल हमारे यहाँ आप कहीं से भी डिग्रियाँ ख़रीद सकते हैं.  मतलब यह कि जो ख़रीदी हुई डिग्रियाँ भी अपनी गर्दन में बांधने की औकात न रखता हो वह भी इस देश का प्रधानमंत्री बन सकता है.

पहले कई दशकों तक लोगों को यह भ्रम रहा कि भाई हमारे देश में लोकतंत्र है. लोकतंत्र में लोक की इच्छा ही सर्वोपरि है. लिहाजा यहाँ प्रधानमंत्री जैसे पद को शैक्षणिक योग्यता जैसी टुच्ची चीज़ से बांधने का क्या मतलब है! इस मामले में तो जनता की इच्छा को ही सर्वोपरि आधार माना जाना चाहिए. लेकिन नहीं साहब, जल्दी ही यह भ्रम भी टूट गया. चलो अच्छा हुआ ये भी. जनमत भी चला गया तेल बेचने. मतलब यह कि स्कूटर चलाने लिए किसी तरह की अगर योग्यता हो ज़रूरी तो हुआ करे, देश चलाने के लिए हमारे देश में किसी योग्यता की ज़रूरत नहीं रह गई है अब.

अब सोचिए, जब बेचारी जनता को ख़ुद ही अपनी इच्छाओं की कोई कद्र न हो तो जिसे उसके सिर पर बैठाया जाएगा वह क्यों करने लगा उसकी इच्छाओं की कद्र? ज़ाहिर है, यह नाप से छोटे वाला ही मामला है. फख्र की बात यह है कि ऐसा कोई पहली बार नहीं हुआ है. हम पिछली कई शताब्दियों से यही झेलते आ रहे हैं. एक ज़माने में हमारे देश के सभी महान राजाओं की कुल निष्ठा अपने पड़ोसी राजाओं पर हमला करने और उनसे लड़ने तक सीमित थी. ये अलग बात है कि इनमें से किसी ने भी देश के बाहर जाने की कोई ज़रूरत नहीं समझी. और तो और विदेशी आक्रांताओं को अपने ही देश में जिताने में भरपूर मदद की. ज़ाहिर है, ऐसी उदारतावादी सोच भी छोटे नाप का ही मामला है.

इस छोटे नाप से ही हम अपने सारे कष्ट भूलते रहे हैं. पता नहीं, अंग्रेजों के हाथ यह कहावत कैसे लग गई. वैसे इसकी पैदाइश तो भारत में ही होनी चाहिए थी. क्या पता, यह कहावत अंग्रेजों ने भारत आने के बाद ही ईज़ाद की हो! बहरहाल, अब यह है तो उनकी ही सम्पत्ति और अब वे अपने दुखों को इसी तरह यानी जूते से ही नाप्ते हैं. अंग्रेज लोग यह भी कहते हैं कि एवरी शू फिट्स नॉट एवरी फुट. मतलब यह कि हर जूता हर पैर में सही नहीं होता. लेकिन हम इसे मानने के लिए तैयार नहीं हैं. हमारे यहाँ इसे झुठलाने की एक तो कटेगरी एक ख़ास किस्म के अफसरों की ही है. उन्हें जिले से लेकर चीनी मिल और यूनवर्सिटी की वाइस चांसलरी तक जहाँ कोए बैठा दे, वे वहीं फिट हो जाते हैं. इसीलिए वे इसी प्रकार के डन्डे से ही देश बेचारे को भी हांकते हैं. अब हम यह प्रयोग कई माम्लों में और वह भी कई तरीक़ों से कर रहे हैं.

अंग्रेज अपने देश में इन कहावतों पर अब कितना अमल या प्रयोग कर रहे हैं, ये वे जानें. बहरहाल हम इन पर लगातार प्रयोग कर रहे हैं. जैसा कि आप जानते ही हैं, प्रयोग सिर्फ़ उन्हीं चीज़ों पर किए जा सकते हैं जिन्हें आप या तो न जानते हों, या फिर इतना जान चुके हों कि अब जानए के लिए कुछ शेष न रहा हो. भला जिस महान देश में सत्य पर ही प्रयोग हो चुका हो, वहां ऐसी मामूली सी कहावत पर जानए के लिए कुछ शेष होगा, ऐसा मुझे लगता तो नहीं है. फिर भी प्रयोग इस पर अभी जारी है. इसकी वजह क्या है, यह जानने के लिए बने रहें हमारे साथ अगली पोस्त तक.

अथातो जूता जिज्ञासा-20

Wednesday, 25 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-20

फ्रांस के इतिहास और उसके चलते उसकी संस्कृति पर जूते का असर कितना जबर्दस्त है, यह बात अब साफ़ हो गई. एक बात और शायद आप जानते ही हों और वह यह कि दुनिया भर में पिछली दो-तीन शताब्दियों से फ्रांस को आधुनिकता का पर्याय माना जाता है. बिलकुल वैसे ही जैसे जैसे कि हमारे भारत महान को रीढ़रहितता का. इससे बड़ी बात यह कि फ्रांस की जो आम जनता है, वह अंग्रेजी जानने को बहुत ज़रूरी नहीं समझती है. इससे भी ज़्यादा शर्मनाक बात यह है कि अपने को अंग्रेजी न आने पर वहाँ के लोगों को कोई शर्म भी नहीं आती है. छि कितने गन्दे लोग हैं. है न!

लेकिन नहीं साहब! दुनिया अजूबों से भरी पडी है और उन्हीं कुछ हैरतअंगेज टाइप अजूबों में एक यह भी है कि बाक़ी दुनिया को भी उनके ऐसे होने पर कोई हैरत, कोई एतराज या कोई शर्म नहीं है. इससे ज़्यादा हैरत अंगेज बात जब मैं बीए  में पढ़ रहा था तब मेरे अंग्रेजी के प्रोफेसर साहब ने बताई थी. वह यह कि एक ज़माने में अंग्रेज लोग फ्रेंच सीखना अपने लिए गौरव की बात समझते थे. ठीक वैसे ही जैसे आजकल हम लोग अंग्रेजी सीखकर महसूस करते हैं. किसी हद तक ऐसा वे आज भी समझते हैं. अब ऐसे जूताप्रभावित देश का जिस इतना गहरा असर होगा, उसकी संस्कृति जूते के प्रभाव से बची रह जाए, ऐसा भला कैसे हो सकता है!

शायद यही कारण है कि उनकी संस्कृति भी जूते से प्रभावित है और वह भी भयंकर रूप से. सच तो यह है कि अंग्रेज लोग जूते से इस हद तक प्रभावित हैं कि उनके लिए किसी की औकात का पैमाना ही जूता है. बिलकुल वैसे जैसे कि आप के लिए दूध, दारू, पानी या तेल का पैमाना लीटर और अनाज, दाल, सब्ज़ी या कबाड़ का पैमाना किलो है. यक़ीन न हो तो आप उनके कुछ मुहावरे और कहावतें देख सकते हैं.

अंग्रेजी भाषा में जूते को लेकर वैसे तो तमाम मुहावरे हैं, पर ख़ास तौर से औकात नापने के मामले में एक मुहावरा है - टु पुट इन वन्स शूज़. इसका सीधा सा मतलब है किसी की ज़िम्मेदारी संभलना. ज़ाहिर है, ज़िम्मेदारी संभालने का मतलब है औकात में आना. विअसे तो हमारे यहाँ भी कहावत है कि जब बाप के जूते बेटे को आने लगें तो उससे मित्रवत व्यवहार करना चाहिए. ज़ाहिर है, यहाँ भी आशय यही है कि जब बाप की औकात बेटे के बराबर हो जाए....लेकिन यहाँ ज़रा मामला थोडा घुमा-फिरा कर है. सीधे तौर पर यह बात नहीं कही गई है. और मेरा अन्दाजा है कि यह कहावत हमारे यहाँ अंग्रेजों के साथ ही आई होगी. वहाँ तो सीधे कहा जाता है कि नाऊ अनूप हैज़ पुट हिज़ लेग्स इन डाइरेक्टर्स शूज़. मतलब यह कि अब अनूप ने डाइरेक्टर का जूता पहन लिया .. ना-ना ऐसा नहीं है. अगर ऐसा होता डाइरेक्टर अनूप को दौड़ा-दौड़ा के मारता और छीन लेता अपना जूता. पर आज वह ऐसा नहीं कर सकता. ऐसा वह इसलिए नहीं कर सकता क्योंकि कहने का अभिप्राय यह है कि अनूप अब डाइरेक्टर हो गया.

इस प्रकार देखें तो अंग्रेजी में जूता ही एकमात्र अपिमाना या कहें कि मापक यंत्र या मात्रक है साहब आदमी की औकात का. क्योंकि अगर गणित के हिसाब से देखें तो

जूता=ज़िम्मेदारी=औकात.

इतना उम्दा समीकरण आपको चुनावी गणित में भी नहीं मिलेगा जी. थोड़ा और फैला कर अगर समझना चाहते हैं तो लीजिए देखिए एक कहावत :

नेव्हर जज समवन अनटिल यू हैव ट्र्वेल्ड अ माइल इन देयर शूज़.

आई बात समझ में. कहक साफ़ तौर पर कह रहा है कि तब तक किसी के बात-ब्योहार-चरित्र-आचरण का कोई फैसिला मत करो, जब तक कि तुम उसका जूता पहिन के कम से कम एक मील चल न लो. मतलब यह कि तब तक किसी को सही या ग़लत मत कहो जब तक कि तुम उसकी हैसियत या ज़िम्मेदारी को थोड़ी देर के लिए झेल न लो.

(अभी ना जाओ छोड़ कर कि भंडार अभी चुका नहीं. कुछ और कहावतें और मुहावरे अगली कड़ी में....)

अथातो जूता जिज्ञासा-19

Tuesday, 24 February 2009

मज़ाक का लाइसेंस

डिस्क्लेमर : अथातो जूता जिज्ञासा की सींकड तोड़्ने के लिए आज एक बार फिर क्षमा करें. कल आपको सुबह 6 बजे जूता जिज्ञासा की 20वीं कड़ी मिल जाएगी. आज आप कृपया यह झेल लें. मेरी यह लुक्कड़ई मुख्यत: दो ब्लॉगर बन्धुओं को समर्पित है. किन्हें, यह जानने के लिए आगे बढ़ें और इसे पढ़ें..........

 

काऊ बेल्ट में एक बात बहुत बढिया हुई है पिछ्ले दो-तीन दशकों में. आप मानें या न मानें लेकिन मैं ऐसा मानता हूँ. पहले लोग नेता चुनते थे, इस उम्मीद में कि ये हमारी नेतागिरी करेगा. उस पर पूरा भरोसा करते थे, कि जब हम भटकेंगे तब ये हमको रास्ता दिखाएगा. अगर कभी ऐसा हुआ कि हम हिम्मत हारने लगे तब ये हमें हिम्मत बंधाएगा. हमको बोलेगा कि देखो भाई इतनी जल्दी घबराना नहीं चाहिए. तुम सही हो अपने मुद्दे पर, लिहाजा तुम लड़ो और हम तुम्हारे साथ हैं. अगर कोई हमें दबाने की कोशिश करेगा तो यह हमारी ओर से लड़ेगा. हमे हर जगह उभारने की ईमानदार कोशिश करेगा. सुनते हैं कि पहले जब देश को गोरे अंग्रेजों से आज़ादी मिली तब शुरू-शुरू में कुछ दिन ऐसा हुआ भी. दो-चार नेता ग़लती से ऐसे आ गए थे न, इसीलिए.

फिर धीरे-धीरे नेता लोगों ने लोगों की उम्मीदों को ठेंगा दिखाना शुरू किया. पहले लम्बे-चौड़े वादे करके नेता बनते थे फिर बेचारी पब्लिक को पता चलता था कि असली में कर तो ये अपने वादों का ठीक उलटा रहे हैं. नेताजी मुश्किल मौक़ों पर हमें हिम्मत बंधाने के बजाय हर जगह हमारी हिम्मत तोड़ने, रास्ता दिखाने के बजाय और भटकाने, उभारने के बजाय ख़ुद दबाने और हमारी लड़ाई लड़ने के बजाय हमें ही ठिकाने लगाने की साजिश में जुटे हैं.  विकास तो बेचारा कहीं हो नहीं रहा, उलटे उसका प्रचार जाने किस आधार पर किया जा रहा है और उसके नाम पर कमीशन भरपूर खाया जा रहा है. ग़रीबी नेताजी ने कही तो थी हमारी मिटाने के लिए, पर मिटाई उन्होंने सिर्फ़ अपनी और चमचों की. अलबत्ता हम और ज़्यादा ग़रीब हो गए. इससे भी बड़ी और भयंकर बात यह है हमारी उत्तरोत्तर ज़्यादा ग़रीब और उनके ज़्यादा अमीर होते जाते जाने की परम्परा लगातार जारी ही है.

अब जनता के सामने यह भेद ख़ुला कि वास्तव में यह नेता नहीं, अभिनेता हैं. अभिनय ये बहुत टॉप क्लास करते हैं, ऐसा झकास कि बड़े-बड़े अभिनेता भी न कर सकें. जो कुछ भी ये कहते हैं वह कोई असली की बात नहीं, बल्कि एक ड्रामे का डायलॉग है, बस. ई मंच पर आते हैं. पहले से स्क्रिप्ट में जो कुछ भी लिखा होता है, वह बोल देते हैं. बात ख़त्म. अगले दिन यह इस स्क्रिप्ट की सारी बात भूल कर नई स्क्रिप्ट के मुताबिक काम शुरू कर देते हैं. फिर न आज वाली जनता से उनका कोई मतलब रह जाता है और न उससे किए हुए वादों से.

असल में आधुनिक भारत में नेतागिरी की परम्परा ही अभिनेतागिरी से शुरू हुई है. कुछ लोग इस बात को शुरू में ही समझ गए और कुछ नहीं समझ सके. जो नहीं समझ सके थे, उनमें कुछ तो थोडे दिनों बाद समझ गए और कुछ ठोकर खा-खा कर भी नहीं समझ सके. जो नहीं समझ सके उनकी छोड़िए. पर जो समझ गए वो सचमुच बड़े आदमी बन गए. वे किसी बात की चिंता नहीं करते हैं. चिंता करने का सिर्फ़ अभिनय करते हैं. अभिनय भी ऐसा कि वाह क्या ज़ोरदार. एकदम हक़ीक़त टाइप लगे. बल्कि हक़ीक़त फेल हो जाए और उनका अभिनय चल निकले. हम ऐसे एक जन को जानते हैं जो बहुत चिंता करते हैं. उनकी चिंता का आलम ये है कि घुरहू की भैंस मरे तो चिंता, लफ्टन साहब का कुक्कुर मर जाए तो चिंता. भले घुरहू की भैंस लफ्टन साहब के कुक्कुर साहब द्वारा काटे जाने के कारण ही मरी हो. ऐसे कई और उदाहरण हैं. हम कहाँ तक गिनाएं. आप तो ख़ुद ही समझदार हैं. समझ जाइए. उनकी चिंता की हालत यह थी कि शहर के बाहरी इलाके में ज़रा सी हवा चली नहीं कि वे आंधी आने की आशंका से चिंतित हो उठते थे और तुरंत अखबार के दफ्तर में पहुंच जाते थे विज्ञप्ति लेकर. अगर कोई सुझा देता था कि आप प्रशासन से मांग करिए कि वह आंधी-तूफान को आने से रोकने की व्यवस्था करे, तो उनको कभी कोई संकोच नहीं होता था. वह तुरंत मांग कर देते थे. लोकल अखबारों में छपी उनकी विज्ञप्तियों के ज़रिये बना इतिहास इस बात का गवाह है कि पानी को बरसने और सूखे को आने से रोकने तक की मांग वह कई बार कर चुके थे.


असल में भारतवर्ष में चिंता, मांग और उसे मनवाने के तौर-तरीक़े से वह भरपूर वाकिफ़ थे. अगर उनकी मांग नहीं मानी जाती थी दो-तीन बार करने के बाद भी, तब वह अनशन पर बैठ जाते थे. थोड़े दिन बैठे रहते थे तो पहले तो कोई तहसीलदार साहब आ जाते थे. उनको समझा-बुझा देते थे. पब्ल्कि को लगता था कि अब हमारी समस्या हल हो जाएगी और वह चल देते थे. उनका अनशन टूट जाता था. फिर पब्लिक को उनकी पहुंच पर थोड़ा शक़ होने लगा और उनको भी लगा कि बार-बार ये तहसीलदार ही आ रहा है. इससे हमारा रोब पब्लिक पर थोड़ा कम हो रहा है. तब वह सीधे डीएम को संबोधित करके मांग करने लगे. अनशन की अवधि थोड़ी बढ़ा दी. पत्रकार भाइयों को चाय पिलाने के अलावा बोतल भी पहुंचाने लगे. अब उनकी अनशन सभाओं में डीएम आने लगे.

बेचारी जनता पर इस बात का बड़ा गम्भीर असर हुआ. आख़िरकार जनता ने उनको अपने क्षेत्र की बागडोर सौंप दी. इसके बाद वे ऐसे नदारद हुए कि अगले पांच साल तक उनको देखने की कौन कहे, आवाज तक लोगों ने नहीं सुनी. बस अख़बारों में लोग उनकी विज्ञप्तियां और कान-फरेंस की ख़बरें ही पढ़ती रही.  इस बीच जनता ने पूरा मन बना लिया कि अब जब आएंगे नेताजी तो वो मज़ा चखाएंगे कि वह भी क्या याद करेंगे. पर बाद में जब आए तो ऐसा भौकाल बनाया नेताजी ने कि बेचारी पब्लिकवे सुन्न हो गई. कुर्ते के कॉलर से लेकर पजामे का नाड़ा तक पसीने से तर-बतर था नेताजी का. दिया उन्होने ब्योरा कि पब्लिक की भलाई के लिए उन्होने क्या-क्या किया. ये मंत्री, वो संत्री, ये नेता, वो ओता, ये अफसर, वो वफसर... रोज न जाने कितने लोगों से मिलते रहे. कई-कई दिन तो खाना तक नहीं खा पाते बेचारे.


फिर क्या था! पब्लिक ने फिर से उनको मान लिया अपना नेता. भेज दिया फिर लखनऊ से भी आगे, अबकी दिल्ली के लिए. बस. बहुत दिन बाद पब्लिक की समझ में आया कि ये कोई हक़ीक़त नहीं है. नेताजी जो कुछ भी करते हैं वह सब फ़साना है, लिहाजा अब नेताजी को ही फंसाना है. नेताजी पब्लिक की किसी परेशानी से चिंतित नहीं होते हैं, बल्कि चिंतित होने का अभिनय करते हैं. जो इसको समझ लेता है उसके साथ वह थोड़ा उससे आगे बढ़कर कुछ कर देते हैं. ये समझिए कि वही काम जो गांव की नाच में लबार यानी कि जोकर करता है. मतलब मज़ाक. बस, और कुछ नहीं.

एक दिन एक संत जी बता रहे थे कि ये ज़िन्दगी क्या है. ये दुनिया क्या है. दुनिया एक मंच है और हर आदमी अभिनेता. सभी अपना-अपना रोल खेल रहे हैं और चले जा रहे हैं. हमारे गांव के घुरहू ने तब निष्कर्ष निकाला कि असल में नेता जी ने इस बात को अच्छी तरह समझ लिया है. घुरहू की अक़्ल असल में संत जी के उलट थी. घुरहू मानते थे कि ज़िन्दगी सच है, लिहाजा ज़िन्दगी की घटनाएं भी सच हैं और उस सच का अभिनय है सच के साथ एक्सपेरीमेंट. असल में नेताजी यही कर रहे हैं. एक्सपेरीमेंट. पब्लिक को अब सच के साथ यह एक्सपेरीमेंट बर्दाश्त नहीं करना चाहिए. इससे वह छली जाती है.

 
इसके पहले कि अपना निष्कर्ष घुरहू सबको बता पाते और यह बात दूर-दूर तक फैलती, नेताजी को पता चल गई. उन्होने तुरंत इंतज़ाम बनाया. ख़ुद बैठ गए और अपने सामने आए बहुत बडे कद्दावर नेताजी के सामने एक अभिनेता जी को उतार दिए. अभिनेता जी ने क्या कमाल किया. कद्दवर नेताजी की तो उन्होने धोती ही ढीली कर दी. पब्लिक ने सोचा था कि अभिनेता जी जैसे फिल्मों में दिखाते हैं कलाबाजी, वैसे ही दिखाएंगे असल ज़मीन पर भी. एक फैट मारेंगे और एके 47 वाले धरती पकड लेंगे. अभिनेता जी जब पर्चा भर के निकले न कचहरी से, तो लड़की लोगों ने अपनी चुनरी बिछा दी उनके स्वागत में. लेकिन देर नहीं लगी. थोड़े ही दिन में उनको पता चल गया कि संसद के सेट पर उनसे भी बड़े-बड़े सुपर स्टार जमे हुए हैं. भाग खड़े हुए मैदान से. इधर पब्लिक ने ये भी देख लिया कि सिनेमा में बहुत ख़ुद्दार दिखने वाले अभिनेता जी जो हैं, ऊ हमारे गांव के नचनिए से ज़्यादा हिम्मतवर नहीं हैं. ज़रा सा झटका लगते ही तेल बेचने चल देते हैं. तो उस बेचारी का भरोसा थोड़ा और डगमगाया. उसने कुछ जगह अभिनेता लोगों को भाव देना बन्द कर दिया.
नेताजी ने यह बात फिर समझ ली. तो लीजिए अबकी बार ऊ सीधे गांव के नाच से ही लेकर आए हैं. बहुत टॉप क्लास का लबार. अरे वही लबार जिसकी एक-एक बात पर हंसते-हंसते आप लोग लोटपोट हो जाते हैं. घंटों खाना-पीना छोड़ के टीवी से चिपटे रहते हैं. अब उसको आपकी नुमाइंदगी के लिए भेजा जा रहा है. संसद के स्टूडियो में जाके अब ऊ आपके हितों पर लड़ने का अभिनय करेगा. हे भाई देखिए, जैसे सभी नेता जी लोग करते हैं चुनावी महाभारत में उन बेचारे को भी आपसे वादे तो करने ही पड़ेंगे. ये उसकी दस्तूर है न, इसीलिए. लेकिन एक बात का ध्यान रखिएगा कि आप कहीं उस वादे को दिल से न लगा लीजिएगा. भूल के भी अगर अइसा करेंगे न, तो पछताइएगा. क्योंकि मज़ाक करना उनका पेशा है. ऊ परदे से लेके चुनावी मंच तक आपके साथ मज़ाक करेंगे. संसद, देश के संविधान, जनता यानी कि आप के हितों और लोकतंत्र के साथ तो मज़ाक यहाँ होइए रहा है, बहुत दिनों से. पर अभी तक जो यह सब होता थ न, वह सब तनी संकोच के साथ होता था. समझ लीजिए कि अब वह संकोच नहीं बचेगा. जो भी होगा खुले आम होगा. संसद और संसदीय मर्यादाओं, जनता और जनता के हितों, लोक और लोकतंत्र, देश और देश के संविधान ...... और जो कुछ भी आप सोच सकते हैं, उस सबके साथ, मज़ाक का सीधा लाइसेंस अब जारी हो गया है. आगे जैसा आपको रुचे. समझ गए न ज्ञान भैया और भाई सिद्धार्थ जी बुझाएल कि ना कुछू?

Sunday, 22 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-19

हाँ तो हम बात कर रहे थे, विदेशों में जूते के प्रताप का. तो सच यह है कि विदेशों में भी जूते का प्रताप भारतवर्ष से कुछ कम नहीं रहा है. बल्कि मुझे तो ऐसा लगता है कि कई जगह भारत से भी ज़्यादा प्रताप रहा है जूते का. इसी क्रम में भाई आलोक नन्दन ने पिछले दिनों जिक्र किया था फ्रांस की एक रानी मेरी अंतोनिएत का. यह जो रानी साहिबा थीं, ये पैदा तो हुई थीं ऑस्ट्रिया में सन 1755 में, लेकिन बाद में फ्रांस पहुंच गईं और वहीं की रानी हुईं. जैसा कि भाई आलोक जी ने बताया है ये अपने दरबारियों पर जूते चलाया करती थीं.

बेशक यह जानकर आपको दुख हो सकता है और मुझे भी पहली बार तो यह लगा कि यह कैसी क्रूर किस्म की रानी रही होंगी. लेकिन साहब उनकी क्रूरता की कहानियों का मामला दीगर मान लिया जाए तो उनकी जूते चलाने की आदत कुछ बुरी नहीं लगती रही होगी. ख़ास तौर से उनके दरबारियों को. केवल इसलिए नहीं कि वे दरबारी थे और दरबारियों को आम तौर पर जूते खाने की आदत होती ही है. अव्वल तो किसी के सही अर्थों में दरबारी होने की यह प्राथमिक टाइप की योग्यता है कि वह जूते खाने में न सिर्फ़ माहिर हो, बल्कि इसमें उसे आनन्द भी आता हो. जूते खाकर वह आह-ऊह न करे, बल्कि कहे कि वाह रानी साहिबा! क्या जूते चलाए आपने! मज़ा आ गया ये जूते खाकर तो. दरबारी होने की यह शर्त आज तक चली आ रही है, इस भयावह लोकतंत्र तक में. लिहाजा इस नाते तो उनके दुखी होने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता और ख़ुशी की बात यह है कि वे जूते कोई  मामूली जूते नहीं होते थे, हमारे-आपके या ज्ञान भैया के बार-बार सोल चढे हुए जूतों जैसे.

रानी साहिबा मैरी अंतोनिएत के जूते हर तरह से ख़ास हुआ करते थे. एक तो इसीलिए कि वे रानी साहिबा के जूते होते थे और दूसरे इसलिए भी कि उनमें हीरे-जवाहरात जडे हुए होते थे. 17वीं शताब्दी की बात तो छोडिए, आज की इस हाइटेक इक्कीसवीं सदी में भी अगर हमको-आपको भी ऐसे जूते मिलें तो दरबारी न होने के बावजूद हम उन्हें पाना अपना सौभाग्य ही समझेंगे. भला बताइए, इस महंगाई के दौर में जब रोटी-दाल का जुगाड ही इतना मुश्किल हो, तब अगर कोई हीरे जवाहरात दे रहा हो, तो जूते की थोडी सी चोट के बदले उसे हासिल कर लेना भला किसे बुरा लगेगा! मुझे पक्का विश्वास है कि उन जूतों के लिए रानी साहिबा के दरबारियों के बीच तो ग़ज़ब की होड ही मच जाती रही होगी और सभी चाहते रहे होंगे कि काश! आज मेरी बारी हो. जिसे वे जूते मिल जाते रहे होंगे उसकी ख़ुशी का तो कोई पारावार ही नहीं होता रहा होगा और ठीक इसी तरह जो तमाम कोशिशों के बावजूद जूते नहीं पाते रहे होंगे उन बेचारों की ईर्ष्या का भी.

यक़ीन न हो तो आप आज के सन्दर्भ में इसे भारतीय लोकतत्र की कई महारानियों के व्यवहार में देख सकते हैं. दक्षिण की एक महारानी के पास तो चप्पलों और जेवरों का इतना बडा भंडार पता चला था कि पूरा इनकम टैक्स महकमा परेशान हो गया उनका हिसाब लगाते-लगाते, पर दरबारी खा-खा कर कभी परेशान नहीं हुए. एक और महारानी उत्तर की हैं, जिनके यहाँ दरबारियों के बैठने के लिए दरी बिछाई जाती है और वह ख़ुद वह सोफे पर बैठ कर जूते चलाती हैं. दरबारी बडी ख़ुशी-ख़ुशी उसे लोकते हैं और मांते हैं कि जूता मिलने का मतलब है विधानसभा और अगर लात भी मिल गया तो समझो लोकसभा का टिकट पक्का. भला यह दुनिया के किस हीरे से कम है. उत्तर की ही एक और महारानी हैं, जिनकी भारत ही नहीं विदेशों में भी तूती बोलती है, उनकी जूतियों के निकट से दर्शन ही दरबारियों की औकात बढा देते हैं. जिसे मिल जाएं, समझो कल्पवृक्ष ही मिल गया. पूरब की एक महारानी हैं. वह जब जूते चलाती हैं तो पब्लिक के हाथ मुश्किल से आया रोजगार का इकलौता साधन तक छिन जाता है, फिर भी पब्लिक उनके जूतों को अपने सिर-आंखों पर स्थान देती है.

महारानी अंतोनिएत के जूतों का क्या मूल्य होता रहा होगा यह तो आलोक जी ने नहीं बताया, पर इतना तो मैं अपने अनुमान से कह सकता हूँ कि उस ज़माने के हिसाब से भी वे जूते बहुत क़ीमती हुआ करते रहे होंगे. अगर उनका ढांचा बिगाड कर भी उनके हीरे-जवाहरात को ही बेचा जाता रहा हो तो भी इतना तो रिटर्न मिल ही जाता रहा होगा कि हमारे जैसे लोगों के लिए एक महीने के राशन की चिंता से मुक्ति मिल जाती रही होगी. अब सोचिए कि एक वो ज़माना था और एक आज का ज़माना.

जूते आज भी 20-20 हज़ार रुपये क़ीमत के तो भारतवर्ष में ही मिल जाते हैं. लेकिन इन क़ीमती जूतों की उन जूतों से भला क्या तुलना. ये तो वैसी ही बात होगी जैसे सोने के हल की तुलना खेत में चलाए जाने वाले हल या राज सिंहासन पर विराजने वाले खडाऊं की तुलना घुरहू के पव्वे से की जाए. इन जूतों में हीरे-जवाहरात तो कौन कहे, ढंग की पीतल भी नहीं लगी होती. दुकान से निकलने के बाद बाज़ार में अगर हम-आप इन्हें बेचने जाएं तो सौ रुपये भी शायद ही मिल पाएं. ये अलग बात है कि दुकान पर हमको-आपको ये 20 हज़ार में ही मिलेंगे. पर सवाल ये है कि ये आख़िर दुकान पर 20 हज़ार में बिकते क्यों और कैसे हैं. तो भाई इसमें तो कमाल सिर्फ़ और सिर्फ़ ब्रैंडिंग का है. और ब्रैंडिंग वो फितरत है जो आजकल तेल-साबुन से लेकर मीडिया तक की होने लगी है. कुछ अख़बारों में तो स्थिति यहाँ तक पहुंच गई है कि सम्पादकीय विभाग को धकिया कर इसने बैक बेंचर बना दिया है और ख़ुद ड्राइविंग सीट पर काबिज हो गई है. मतलब यह कि उनकी सम्पादकीय नीतियां ही तय करने लगी है. लिहाजा अब अगर आपको टेलीविज़न पर सिर्फ़ चटपटी ख़बरें और अख़बारों में भी बहुत सारी चटपटी ख़बरें मिलने लगी हैं तो उन पर अफ़सोस करने की कोई ज़रूरत नहीं है.

बहरहाल, मैरी अंतोनिएत के प्रसंग से सिर्फ़ इतना ही ज़ाहिर नहीं हुआ कि विदेशों में भी जूता जी का प्रताप ऐतिहासिक सन्दर्भों में महत्वपूर्ण है, बल्कि सच तो यह है कि वहां यह आम आदमी के लिए आज के भारत की तुलना में ज़्यादा उपयोगी भी रहे हैं. कम से कम, आज के लोकतांत्रिक राजाओं के दरबारी तो ख़ुद को आम आदमी ही मानते हैं. मेरा ख़याल है कि उन दिनों भी राजा-रानियों के दरबारी ख़ुद को राजा-रानी साहिबा के सामने आम आदमी ही कहा करते रहे होंगे. मुझे तो ऐसा लगता है कि आजकल भी जो ख़ास लोग ख़ुद को आम जगहों पर आम आदमी के रूप में प्रेज़ेंट करते हैं उसकी यह एक बडी वजह है. ये अलग बात  है कि जिस आम आदमी के नाम पर ही सब कुछ होता है उसे सब कुछ होने का न तो तब कोई फ़ायदा मिल पाया और न आज ही मिल पा रहा है.

(चरैवेति-चरैवेति...)

अथातो जूता जिज्ञासा-17

Saturday, 21 February 2009

हरा दीजिए न, प्लीज़!

(डिस्क्लेमर : आज जूता कथा को सिर्फ़ एक बार के लिए कुछ अपरिहार्य कारणों से ब्रेक कर रहा हूँ. आशा है, आप इसे अन्यथा नहीं लेंगे. आशा है, आप इसे अन्यथा नहीं लेंगे. कल से फिर अथातो जूता गिज्ञासा जारी हो जाएगी और आप उसकी 19वीं कडी पढ सकेंगे. तब तक आप इसका आनन्द लें. धन्यवाद.)

"अले पापा दादा को गुच्छा आ गया."

"क्या गुच्छा आ गया? कौन से दादा को कौन सा गुच्छा आ गया?"

"अले वो दादा जो टीवी में आते हैं, हल्ला मचाने के बीच, उनको औल वो वाला गुच्छा जो आता है."

"ये कौन  कौन सा गुच्छा है भाई जो आता है. आम का, कि मकोय का, कि अंगूर का या और किसी चीज़ का?"

"ना-ना, ये छब कुछ नईं. वो वाला गुच्छा जो आता है तो लोग श्राब दे देते हैं. वो दादा तब लोपछभा में कहते हैं कि जाओ. तुम छब हाल जाओ."

लीजिए साहब! छोटी पंडित की बात स्पष्ट हो गई. ये उसी दादा की बात कर रहे हैं जिनको लोप, अंहं लोकसभा में गुस्सा आया है. वैसे लोकसभा को चाहे अपनी तोतली भाषा में सही पर उन्होने नाम सही दिया. आख़िर लोक के नाम पर बनी जिस सभा से लोक की चिंता का पूरी तरह लोप ही हो चुका हो, उसे लोपसभा ही तो कहा जाना चाहिए. और उसी दादा को आया है जिन्हें वह कई बार आ चुका है. इसके पहले उनको ग़ुस्सा आने का नोटिस लोग इसलिए नहीं लेते रहे हैं क्योंकि वह उन्हें जब-जब आया उसका कोई ख़ास नतीजा सामने नहीं आया. मतलब यह कि दादा को ग़ुस्सा तो आया, पर उस बेचारे ग़ुस्से का कोई नतीजा नहीं आया. बेचारा उनका ग़ुस्सा भी बस आया और चला गया. किसी सरकारी घोटाले के जांच के लिए आई टीम के दौरे की तरह. जैसे सरकारी घोटालों की सरकारी जांचों कोई निष्कर्ष नहीं निकलता, बिलकुल वैसे ही दादा का ग़ुस्सा भी अनुर्वर साबित हुआ.

यहाँ तक कि दादा को एक बार न्यायपालिका पर ग़ुस्सा पर भी ग़ुस्सा आ गया था. बोल दिया था दादा ने तब कि न्यायपालिका को उसकी सीमाओं में ही रहना चाहिए. मैं बडे सोच में पड गया था तब तो कि भाई आख़िर न्यायपालिका की सीमाएं क्या हैं. मेरे न्यायवादी मित्र सलाहो ने तब मेरे संशय का समाधान किया था कि जहाँ से विधायिका में किसी भी तरह एक बार बैठ गए लोगों के हितों की सीमाएं शुरू हो जाएं, बस वहीं अन्य सभी पालिकाओं की सीमाएं बाई डिफाल्ट ख़त्म समझ लिया करो. तब से मैंने इसे एक सूत्रवाक्य मान लिया. ग़नीमत है कि दादा को अभी तक संविधान पर ग़ुस्सा नहीं आया. वरना क्या पता अचानक बेचारे सविधान को भी वह खुले आम उसकी सीमाएं समझाने लगें. अब तो और डर लगने लगा है, क्या पता श्राब ही दे दें. हे भगवान! तब क्या होगा? मैं तो सोच कर ही डर जाता हूँ. बहरहाल मुझे पूरी उम्मीद है कि ऐसा नहीं होगा. क्योंकि उनके होनहार साथी जिन पर आज उन्होंने ग़ुस्सा किया है, वे अक्सर अपने मन मुताबिक ठोंकपीट उसमें करते रहते हैं और वह चुपचाप सब कुछ बर्दाश्त करता रहता है. मैं समझ नहीं पाता कि इसे उसका बडप्पन मानूं या बेचारगी कि आज तक एक बार भी उसने भूल से भी कभी इस ठोंकपीट पर किसी तरह का एतराज नहीं जताया.

इसका यह मतलब बिलकुल न समझें कि दादा को हमेशा ग़ुस्सा ही आता रहता है. अब देखिए, मन्दी देवी तो अब आई हैं, एक साल पहले. पर पूरे देश की जनता महंगाई से त्राहि-त्राहि कर रही है पिछ्ले 5 साल से. पर एक बार भी दादा को इस बात पर ग़ुस्सा नहीं आया. उनकी पार्टी को इस बात पर एक-दो बार ग़ुस्सा ज़रूर आया इस बात पर और पार्टी ने इस बात थोडा हो-हल्ला भी मचाया. पर दादा को एक बार भी इस बात पर ग़ुस्सा नहीं आया. और तो और, पार्टी ने इस बात पर समर्थन तो क्या वमर्थन वापस लेने की बात भी नहीं की. और जब चार साल बीत गए और लगा कि अब तो जनता के बीच जाने का वक़्त निकट आ गया है तो बिन मुद्दे का मुद्दा गढ डाला. एटमी सन्धि के बहाने पूरे का पूरा समर्थन ही वापस ले लिया. पहले से ही जनता के बीच होने की रियाज के लिए.

दादा ने लेकिन तब पार्टी छोड दी लेकिन हस्तिनापुर का वह सिंहासन नहीं छोडा जिसकी रक्षा का वचन वह शायद राजमाता को दे चुके थे. आप को जो मानना हो मान सकते हैं, लेकिन मेरा मानना है कि दादा ने तब ठीक ही किया. आख़िर जब दोनो तरफ़ कौरव ही हों तो किसका साथ दिया जा सकता है? जब तय हो कि किसी भी स्थिति में हस्तिनापुर तो नहीं ही बचना है, तो किसका साथ दिया जा सकता है. बेहतर होगा कि फिर हस्तिनापुर के सिंहासन की ही रक्षा की जाए. लिहाजा दादा ने भी किसी भी समझदार आदमी की तरह यही किया.

लेकिन दादा इस बार चुप नहीं रह पाए. कैसे रह सकते थे? उन्होने अपनी दूरदृष्टि से देख लिया है कि इस तरह हल्ला मचाने वाले जनप्रतिनिधि सिर्फ़ अपना, अपने स्वार्थों और अपने अहं का ही प्रतिनिधित्व कर सकते हैं. जन से उनका कोई मतलब रह ही नहीं गया है. मैं समझ सकता हूँ, दादा को इस बार ग़ुस्सा बहुत ज़ोर का आया है. इतनी ज़ोर का कि बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया. लेकिन बेचारे वे आख़िर कर भी क्या सकते थे. भाई उम्र भी तो हो गई है. और जब कुछ नहीं किया जाता तो एक ही बात होती है.

मुझे अपने गांव की हरदेई बुआ याद आ गईं. बुढापे में उठ भी नहीं पाती थीं, पर ग़ुस्सा तो उन्हें आता था. तो सुबह से शुरू हो जाती थीं, अपने इकलौते नालायक बेटे पर. कुछ और तो कर नहीं सकती थीं, लिहाजा उसे शाप ही देती थीं. हमारे गांव में उन्हें दुर्वासा ऋषि का अवतार माना जाता था.  और हाँ, दुर्वासा ऋषि भी आख़िर क्या कर सकते थे. न तो वे राजा थे, न सेनापति, न मंत्री और कोई राजपुरोहित ही. कोई और रुतबा तो उनके हाथ में था नहीं जो किसी का कुछ बिगाड लेते. पर उन्हें गुस्सा तो आता था. लिहाजा वे घूम-घूम कर शाप ही दिया करते थे. मुझे लगता है कि कुछ ऐसा ही मामला दादा के साथ भी हो लिया है. अब दादा हैं कि ग़ुस्सा करके शाप दे रहे हैं और अपने इम्तिहान वाले कौशल भाई हैं कि इस ग़ुस्से पर भी बहस कराना चाहते हैं. अरे भाई ग़ुस्सा है तो बस ग़ुस्सा है, अब उस पर बहस कैसी. क्या पूरे देश को आपने वकील समझ रक्खा है, जो बात-बेबात बहस ही करने पर तुली रहे.

जा जनता बहस नहीं करेगी. यह बात दादा भी जानते हैं. दादा जानते हैं कि जब वामपंथियों के एक धडे ने हिटलरशाही को अनुशासन पर्व बताया था, तब भी जनता ने जनार्दन को मज़ा चखाया था. लिहाजा उन्हें पूरी उम्मीद है कि इस बार भी वह अपने हितों से खेलने वाले महान लोकनायकों को मज़ा चखा देगी. तभी तो उम्मीद से शाप दिया है, "जाओ तुम सब हार जाओगे. ये जो पब्लिक है, ये सब जानती है." अब देखिए, दादा तो जो कर सकते थे, वह तो उन्होने कर दिया. गेंद उन्होने आपके पाले में डाल दी है.  अब यह आप पर है कि आप उसके साथ क्या सलूक करें.

लेकिन भाई, दादा के शाप के साथ-साथ आपसे यह बिनती है. दादा जो भी हों और जैसे भी हों तथा अब तक उन्होने जो भी और जिसलिए भी किया हो, प्लीज़ वह सब आप लोग भूल जाइए. बस एक बात याद रखिए. वह यह कि आपके महान लोकनायकों दिया गया उनका यह शाप शायद आपके लिए वरदान साबित हो सकता है.  तो इस देश के लोकतंत्र पर दादा की आस्था की रक्षा के लिए मेरी एक बात मान जाइए न! अपने ऐसे महान लोकनायकों को, जिन्हें लोक की कोई परवाह ही न हो, इस बार हरा दीजिए न, प्लीज़!

Friday, 20 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-18

अब बात जूता शास्त्र या जूतापैथी की नहीं, अपितु समग्र जूताशास्त्रीय परम्परा के अनुशीलन की है तो इसकी शुरुआत हमें आधुनिक भारतीय नियमानुसार पश्चिम से ही करनी होगी. मैं जानता हूँ कि अगर मैं सीधे भारत से ही इस परम्परा का अनुशीलन करने लगा तो चाहे वह कितनी भी महत्वपूर्ण क्यों न होअ, विद्वान (सॉरी मेरा मतलब इंटेलेक्चुल्स से था) लोग उसे स्वीकार नहीं करेंगे. अब देखिए न! हम शेक्सपपीयर को इंग्लैण्ड का कालिदास नहीं, कालिदास को भारत का शेक्सपीयर कहते हैं. मम्मट और विश्वनाथ जैसे आचार्यों के रहते हम कबीर, गोरख, तुलसी और रैदास के काव्य को प्लेटो की कसौटी पर कसते हैं. तो भला इस परम्परा को अगर मैंने केवल भारतीय कहा तो आप कैसे मान लेंगे. अभी देखिए, भाई अरविन्द जी इधर बताने लगे हैं कि भोले बाबा की पूजा बहुत पहले से दूसरे देशों में भी होती रही है. मुझे पक्का यक़ीन है इस बार वे ब्लॉगर भी महाशिवरात्रि पर अभिषेक करने जाएंगे, जो पिछली बार तक नहीं जाते रहे हैं. आख़िर अब मामला ग्लोबल है न भाई!

असल में हम भारतवर्षियों की एक बहुत ही पुरानी आदत ये है कि अपनी जो भी चीज़ें हमें बुरी लगती हैं (चाहे वास्तव में वे कितनी भी अच्छी क्यों न हों) उनके बारे में हम यह मान लेते हैं कि इनका सारा प्रताप केवल भारत में ही है. भला विदेशों में कोई ऐसी बातें मानता है या ऐसे काम करता है, ना-बिलकुल भी नहीं. ख़ास तौर से वे लोग जो अपने जिला मुख्यालय से आगे नहीं गए होते हैं, वे तो यह बात डंके की चोट पर पूरे दावे के साथ कहते हैं कि विदेशों में ऐसा बिलकुल नहीं है. बिलकुल वैसे ही जैसे कुछ विद्वान पंडित लोग पूरे दावे के साथ कह देते हैं कि चार वेद और छः शास्त्र में कहीं भी यह नहीं लिखा है कि पहले प्रेम विवाह होता था. अब यह अलग बात है कि अगर यह दावा करने वाले विद्वान पंडितों से उसी वक़्त पूछ लिया जाए तो शायद वे चार वेद और छः शास्त्रों के नाम भी न गिना सकें. वेद-शास्त्र का उनका कुल ज्ञान केवल सत्यनारायण व्रत कथा तक सीमित होता है. पर दावा करने में क्या जाता है! सो वे दावा कर देते हैं.

इसके ठीक विपरीत हमारे देश में एक वर्ग उनका भी है जो सच्चे अर्थों में इंडियन लोग हैं. भारत, हिन्दुस्तान और आर्यावर्त के अस्तित्व का उन्हें कोई भान तक नहीं है. वे इंडिया में रहते हैं, इंडिया में जीते हैं, इंडिया में खाते हैं, इंडिया में पीते हैं, इंडिया ही ओढते हैं और इंडिया ही बिछाते हैं. उन्हें हर वह चीज़ बेहद पसन्द होती है, जिसका नाम अंग्रेजी में होता है. और तो और, अगर किसी भारतीय चीज़ का नाम भी अंग्रेजी में कर दिया जाए तो वह उन्हें महत्वपूर्ण एवं उपयोगी लगने लगती है तथा पसन्द आने लगती है. जैसे आप योग को ही देखिए. अभी तक अमेरिका या इंग्लैंड में कोई महापुरुष उनका पेटेंट करा पाया या नहीं, यह तो मैं नहीं जानता, लेकिन इतना ज़रूर जानता हूँ कि भारत में कुछ महापुरुष योगा के बडे फैन हैं. वे रेगुलर योगा करते हैं और अगर ग़लती से भी कहीं आपने उनसे योग की चर्चा कर दी तो समझिए कि झंझट. वह बिदक जाएंगे.

बात भी ठीक है. ग्लोबल लैंग्वेज तो जो है वो अंग्रेजी है, फिर किसी चीज़ के हिन्दी नाम का क्या मतलब? देखिए अंग्रेजों ने क़रीब दो सौ साल तक हमारे देश पर राज किया. ऐसा वे क्यों कर सके? इसीलिए न कि वे अंग्रेजी जानते थे. अगर अंग्रेजी न जानते होते तो क्या वे ऐसा कर पाते? कभी नहीं. और तो और, अंग्रेजों के भारत से जाने के बाद तो यह बात और ज़्यादा ज़ोरदार तरीक़े से साबित हो गई. अब देखिए न, आज भी हमारे ऊपर वही लोग राज कर रहे हैं जो अंग्रेजी जानते हैं. बल्कि सरकार में धीरे-धीरे अंग्रेजी जानने वालों का ही वर्चस्व बढता गया है. एक बहुत बडे गिरोह के लोगों ने बाक़ायदा यूरोप से ही अपने लिए सरदार आयात किया है. उन्हें अपने भारतीय सरदारों पर ज़रा भी यक़ीन नहीं हुआ.

हालांकि आज़ादी के तुरंत बाद जो सरकार हमारी बनी थी, शुरुआती दौर में, उस वक़्त सरकार में कुछ दिहाती लोग भी आ गए थे. उनको अंग्रेजी नहीं आती थी. सिर्फ़ हिन्दी आती थी, या तमिल, तेलुगु, बांग्ला, मराठी ... आदि कोई दूसरी भारतीय भाषा आती थी.  पर आपको अब कहीं कुछ ऐसा गडबड दिखाई देता है? बिलकुल नहीं. क्यों? क्योंकि इस दिशा में बहुत सोच समझ कर बडे ही क़ायदे से काम किया गया. शुरू से ही हमारी सरकार के जो कर्ता-धर्ता थे उन्होने इस बात का पूरा ख़याल रखा कि जितनी जल्दी हो सके ई धोती बांधने वालों को सरकार के भीतर से दफ़ा करना है. तो चुन-चुन कर ऐसे लोगों को किनारे लगाने की पूरी मुहिम चलाई गई. राजनेताओं की जगह साहब बैठाए गए. तब जाकर इतनी कडी मेहनत के बाद अब हमारे देश में सचमुच शूपात्र लोग सरकार में आ सके हैं.

पिछले साठ सालों में हमारे लोकतंत्र ने इतनी तरक्की की है कि अब देखिए चारों ओर तो देख के ई लगता है कि सचमुच  राजा लोग राज कर रहे हैं.   धोती तो दूर अब पजामा पहनने वाले भी संसद-विधान सभा जैसी जगहों पर कम ही दिखाई देते हैं. हाँ बाहर यानी देश के भीतर कहीं जनसभा-वभा के लिए निकलने पर ज़रूर कभी इलास्टिक के नाडे वाला पजामा बांध लेते हैं. तब जाकर हम यह गौरव हासिल कर सके हैं कि दुनिया के सबसे बडे लोकतंत्र (जैसा कि दावा किया जाता है) के शीर्ष पर भी किसी व्यक्ति को बैठाने के लिए हमें जनमत की ज़रूरत नहीं, सूट-बूट-टाई और एक व्यक्ति के प्रति आस्था चाहिए होती है.  ऐसा कैसे सम्भव हो सका है, जानते हैं? ऐसा सिर्फ़ इसलिए सम्भव हो सका है क्योंकि अब हमारे देश में सिर्फ़ उन्हीं पार्टियों का वर्चस्व रह गया है, जो जन के बजाय जूते से चलती हैं.

अब आपको होने के लिए यह भ्रम भी हो सकता है कि यह जूता तंत्र हमारा अपना है और सिर्फ़ हमारा ही है. अन्य किसी भी देश का इस पर कोई हक़ बिलकुल भी नहीं है.  जैसे कई लोगों को यह भ्रम है कि विदेशों मे जितना कुछ भी ज्ञान है, वह सब यहीं से गया है. लेकिन नहीं साहब ऐसा नहीं है. जब आपके यहाँ ऋषि-मुनि बैठ कर वेद-पुराण और मनुस्मृति रचने में लगे थे तो बाक़ी जगहों पर भी लोग कोई घास नहीं छील रहे थे. वह भी कुछ रच रहे थे. जब आपके यहाँ जूते पर काम चल रहा था तभी दूसरे देशों में भी जूते पर काम चल रहा था और इसके ही फलस्वरूप जूते पर उनके यहाँ भी काफ़ी कुछ हुआ मिलता है.  तो इससे यह पता चलता है कि जूते को लेकर दूसरे देशों में भी काफ़ी समृद्ध परम्परा है.

(कैसे यह जानने के लिए बने रहिए इयत्ता के साथ. बहरहाल अभी हम लेते हैं एक छोटा सा वमर्शियल ब्रेक (ज़्यादा नहीं, सिर्फ़ चौबीस घंटे का) ब्रेक के बाद हम फिर मिलेंगे और आपको बताएंगे कि क्या हैं विदेशों में जूताजी से जुडी महान परम्पराएं. )

अथातो जूता जिज्ञासा-16

Technorati Tags: ,,

Tuesday, 17 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-17

यूँ तो चिकित्सा पक्ष को 16वें अध्याय में ही सम्पूर्ण मान लेने का मेरा इरादा था, लेकिन कुछ चिट्ठाकार साथियों की टिप्पणियों के ज़रिए जो आदेश आए उसके मुताबिक मुझे इसे विस्तार देना ज़रूरी लगा. इधर व्यस्तता का आलम कुछ ऐसा रहा कि लिखना सम्भव नहीं रहा, इसलिए समय से मैं पोस्ट नहीं कर सका. व्यस्तता आज भी कुछ ऐसी ही रही और रात को क़रीब साढे 11 बजे लौट कर लिखने का इरादा तो बिलकुल भी नहीं था. पर अब तो धन्यवाद ही कहना पडेगा उन सर्वथा अपरिचित पडोसी महोदय-महोदया को, जिनके यहाँ शायद शादी है और फिल्मी-ग़ैर फिल्मी गाने इतनी ऊंची आवाज़ में बजाए जा रहे हैं कि बेचारे कान के सही-सलामत होने पर अफ़सोस हो रहा है. मुझे याद आ रहा है, काफ़ी पहले मैंने एक फिल्म देखी थी- 'अग्निसाक्षी'. उसमें नाना पाटेकर हीरो थे और उनके कोई बगलगीर अपना जन्मदिन मना रहे थे. देर रात तक वे भी ऐसा कानफाडू शोर मचाए हुए थे. काफ़ी देर तक बर्दाश्त करने के बाद जब नाना साहब से नहीं रहा गया तो उन्होने अपनी बन्दूक उठाई और पहुंच गए उनके तम्बू-कनात में. चलाने लगे दनादन गोलियां. उनका डायलॉग ठीक-ठीक तो याद नहीं, पर उसका लब्बोलुआब यह था कि साले तुमने पैदा होकर दुनिया पर कौन सा एहसान किया है जो पूरी दुनिया तुम्हारे पैदा होने की ख़ुशी में अपनी नींद ख़राब करे और चैन गंवा दे. बहरहाल, इसके साथ ही उनकी ख़ुशी का पटाक्षेप हो गया.

मन तो मेरा भी यही कर रहा है कि कुछ ऐसा ही करूँ, लेकिन मजबूरी यह है कि मेरे पास बन्दूक नहीं है. और अगर हो भी तो गोलियां इतनी महंगी हो गई हैं कि अब सिर्फ़ फिल्मों में ही चलाई जा सकती हैं. पर साहब जूते तो चलाए ही जा सकते हैं! अगर पूरा मोहल्ला साथ दे. पर यहाँ कौन साथ देगा. पहली तो वजह यह कि सभी यही करते हैं  और दूसरी यह कि यहाँ ग़ुनाह ग़ुनाह नहीं है, ग़ुनाह है ग़ुनाह के ख़िलाफ़ खडे होना. एक दिन जूता चलाइए और पूरी ज़िन्दगी कोर्ट-कचहरी का चक्कर लगाते फिरिए.

जूता जी का उपयोग किया जा सकता है, बशर्ते साथ देने के लिए पूरा समूह हो और समूह यहाँ किसी अच्छे काम के लिए नहीं बन पाता है. संघे शक्ति तो है कलियुगे, लेकिन संघ यहाँ दुर्भाग्य से चोर-उचक्कों के ही बन पाते हैं. असामाजिक, अमानवीय और अराजक तत्वों के ही बन पाते हैं. बेचारा शरीफ़ आदमी अपने बीवी-बच्चों की परवाह करे, नौकरी-व्यापार या खेती करे, ब्लॉग लिखे या कि संघ बनाए! वैसे ऐसी आज़ादी, जिसमें खेत बढने के लिए आज़ाद हो या न हो, पर गधा चरने के लिए ज़रूर आज़ाद है, है सिर्फ़ हमारे ही देश में. दूसरे देशों में ऐसी आज़ादी सर्वथा अनुपलब्ध है. क्योंकि भीख में आज़ादी (जैसा कि इतिहास की किताबों में हमें पढाया गया है) सिर्फ़ और सिर्फ़ भारत वर्ष को ही मिली है. ऐसे देश में कोई संघ बनाने का क्या मतलब जहाँ आज़ादी तो आज़ादी, आज़ादी की लडाई ही हाइजैक हो गई. 

(लीजिए, शायद उन्हें भनक लग गई कि मैं जूता शास्त्र लिखने बैठ गया हूँ. शोर तो बन्द हो गया, पर अब मैं थमने वाला नहीं हूँ. ये है न जूतापैथी का असर!)

पीछे एक पोस्ट में भाई राज भाटिया और एनॉनिमस जी ने ध्यान दिलाया था मन्दिर से जूते चोरी होने का. यह त्रासदी मैंने भी भुगती है और मुझे लगता है कि सिर्फ़ हमारा-आपका ही नहीं, भारत के हर आम आदमी का जूता ही हाइजैक हो गया है. उसे अब अपने लिए नए सिरे से जूते गढने होंगे. पर मुश्किल यह है कि वह अपने लिए जूते गढने के बजाय उन्ही तत्वों के लिए जूते गढने में व्यस्त है जिन पर उसे जूते चलाने चाहिए. अगर एक बार वह ऐसे तत्वों के लिए जूते गढने छोड कर ख़ुद अपने लिए जूते बनाने शुरू कर दे तो देश के बहुत सारे रोगों का इलाज हो जाएगा. सिर्फ़ कायिक रोग ही नहीं, मानसिक और आत्मिक रोगों का निदान भी इस पैथी में है.

अब आप पिछले दिनों उठे प्रेम रोग के ज्वार का ही मसला लें. दिल्ली में ही कुछ ऐसी जगहें हैं, जहाँ लोग सिर्फ़ तभी जाना पसन्द करते हैं जब  वे अकेले हों या साथ मे कोई ऐसा या ऐसी ही हो .... अगर बच्चों के साथ जाना हो तो उनके लिए मुसीबत हो जाए. मैं एक ऐसे सज्जन को जानता हूँ जो दिल्ली की प्रेम वाटिकाओं में जाना ख़ूब पसन्द करते थे. संयोग से विवाहोपरांत उन्हें किसी पार्क में जाने का उनका मन हुआ. बहुत तलाशते-तलाशते एक पार्क में ऐसी जगह मिली जिसे उन्होने थोडी देर बैठने लायक उपयुक्त समझा. लेकिन उनके वहाँ बैठने के थोडी ही देर बाद वहाँ वेलेंटाइन छाप एक प्रेमी जोडा आ धमका और उसने जो आलाप शुरू किया, वह उनके लिए थोडी ही देर में घबराहट का कारण बन गया. हद हो गई जब बच्चा पूछ बैठा, 'पापा ये लोग कौन हैं?' बेचारे पापा क्या बताते! उन प्रगतिशील पापा ने बताया, 'बेटा ये लोग भाई बहन हैं.'

'अच्छा! ये लोग क्या कर रहे हैं?" इस सवाल का पापा के पास कोई जवाब नहीं था. मम्मी ने जवाब दिया, 'वे लोग प्यार कर रहे हैं'.

'ओह! हम भी बडे होकर अपनी बहन से ऐसे ही प्यार करेंगे.' बेटे की यह इच्छा जाहिर होते ही वे वहाँ से चल पडे और पूरे रास्ते वेलेंटाइनवादी प्रेमियों को गरियाते ही रहे. महीनों गरियाते रहे. सबसे ज़्यादा अफ़सोस इस बात पर था उन्हें कि दिल्ली में कोई ऐसी जगह नहीं रही जहाँ थोडी देर परिवार समेत जाकर बैठा जा सके. बाद में उनके जो लेक्चर सुनने को मिले, अगर मैं टीवी का पत्रकार या बुद्धिजीवी होता तो निश्चित रूप से उन्हें तालिबानी या अलक़ायदावादी घोषित कर देता. पर अफ़सोस मैं ऐसा नहीं कर सकता. बहरहाल कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो हमारी-आपकी तरह कुढते नहीं रहते हैं. वे जूता लेकर निकल आते हैं और इलाज शुरू कर देते हैं.

यह इलाज इंजेक्शन और सर्जरी से भी ज़्यादा कारगर साबित होता है.  मैं उनकी बात नहीं कर रहा हूँ जो पहले धन्धेबाजों के टुकडों पर जूते चलाते हैं और फिर गुलाबी चड्ढियों के साथ फोटो भी खिचवाते हैं. पहले विरोध करके अपना और कम्पनी का प्रचार और फिर अपने विरोध का प्रदर्शन करके दुहरा प्रचार. यानी दोनों हाथ में लड्डू. समझदार लोग, जो समर्थकों और विरोधियों दोनों का ठीक-ठीक मंतव्य समझते हैं, चड्ढी के  बदले लंगोटांदोलन चला देते हैं.  यह भी एक तरह का जूता ही है, भिगोया हुआ जूता. असल में जूतापैथी के साथ भी एक बडी दिक्कत यह है कि यहाँ भी अलग-अलग रोगों के लिए अलग-अलग क़्वालिटी के जूते की और भी अलग-अलग मात्रा में ज़रूरत होती है. जैसे होमियोपैथी में होता है- मदरटिंचर से लेकर टेन थाउज़ैंड एक्स तक की हर दवाई आती है और शायद एक लाख पॉवर तक की दवाएं भी आती हैं. सब एक से एक कारगर. पर दिक्कत वही है, रोग को समझ कर इलाज होता है और वह भी एक्सपर्ट डॉक्टर द्वारा. एक बार अगर कायदे से हम इनका इस्तेमाल सीख जाएं तो भाई योगेन्द्र मौद्गिल वाली चिंता से मुक्त हो जाएंगे. यह बात सिर्फ़ होमियोपैथी में ही नहीं, उस एलोपैथी में भी है, जो इलाज से पहले चेक पर ही मरीज के हज़ारों रुपये ख़र्च करा देती है और आयुर्वेद में भी. जूतापैथी से विभिन्न रोगों के इलाज के तरीक़े अगर आप जानना चाहते हैं, तो थोडा धैर्य रखें और जैसे किसी एलोपैथ डॉक़्टर के यहाँ जाने के बाद आप सिर्फ़ रोग जानने के लिए हज़ारों रुपये ख़र्च कर देते हैं, ठीक वैसे जूतापैथी से विभिन्न रोगों का इलाज कैसे किया जाए, यह ठीक-ठीक जानने के लिए आपको पहले जूतापैथी की पूरी परम्परा से वाकिफ़ होना पडेगा और यह जानने के लिए कृपया बने रहें हमारे साथ अगले वमर्शियल ब्रेक तक.

(चरैवेति-चरिवेति)

अथातो जूता जिज्ञासा-16

Technorati Tags: ,,

Saturday, 14 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-16

जूता जी की भूमिका भारतीय चिकित्सा शास्त्र में केवल यहीं तक सीमित हो, ऐसा भी नहीं है. कई अन्य महकमों की तरह चिकित्सा जगत या कहें कि महकमे में भी जूते को एक सम्मानजनक हैसियत प्राप्त है. इसका एहसास मुझे बहुत जल्दी हो गया. तभी जब मैं गोरखपुर में था. हुआ यूँ कि एक बेचारे आम आदमी का एक्सीडेंट हो गया. घर-परिवार और गाँव-बाज़ार के लोगों की नज़र में वह सिर्फ़ आम ही नहीं, बल्कि कुछ-कुछ आवारा किस्म का आदमी था. अब ज़ाहिर है, ऐसी स्थिति में उसकी कोई हैसियत तो थी नहीं. फिर भी उसे लेकर लोग तुरंत अस्पताल आए. अब चूंकि वह आवारा ही था, पैसा-कौडी तो उसके या परिवार वालों के पास कुछ था नहीं,  लिहाज़ा उसे किसी प्राइवेट अस्पताल में नहीं जाया जा सकता था. उधर सरकारी अस्पतालों से गम्भीर मरीजों के ठीक होकर वापस घर लौटने की परम्परा आप जानते ही हैं कि आज तक शुरू नहीं हो सकी है. इसके बावजूद उसे सरकारी अस्पताल मे ही भरती करवाया गया.

सरकारी अस्पताल में आने के बाद पहले तो उसे भर्ती करने से ही मना कर दिया गया, पर इसी बीच उसका कोई उसके ही जैसा यानी आवारा किस्म का मित्र आ गया और उसके दबाव पर उसे भरती कर लिया गया. हालांकि उसके दबाव को उस वक़्त माना डींग ही जा रहा था, लेकिन चूंकि सरकारी अस्पतालों के कर्मचारी अनुभवी होते हैं और वे जानते हैं कि कई बार डींग लगने वाली बातें भी सही साबित हो जाते हैं, लिहाजा उसका मुँह बन्द करने के लिए उसे भरती कर लिया गया. पर इस दबाव के बावजूद अस्पताल में उसे भरती वैसे ही किया गया जैसे कि कांजी हाउस में जानवरों को करते हैं. मतलब यह कि उसे बेड के नाम पर किसी वार्ड के कोने में थोडी सी जगह दे दी गई. जैसे-तैसे उसी कोने में एक गन्दी सी चादर डालकर उस पर उसे लिटा दिया गया. इसके परिवार के जो लोग उस वक़्त वहाँ मौजूद थे, सभी एक किनारे बैठ कर बिलकुल वैसे ही उसके जीवन की घडियाँ गिनने लगे, जैसे आम जनता एक बार एक पार्टी की सरकार बनवाने की ग़लती करने के बाद अगले चुनाव के दिन गिनने लगते हैं.

इस बीच उसके उस आवारा टाइप मित्र के जुगाड या दबाव पर ही कोई डॉक़्टर तो नहीं, पर एक कंपाउंडर साहब आकर कुछ मरहम पट्टी भी कर गए. कुछ दवाएं भी उन्होने लिख दीं और वह भी वह आवारा टाइप मित्र ही बाज़ार से किसी तरह जुगाड कर लाया. परिवार वाले उसके बडे कृतज्ञ हुए जा रहे थे, क्योंकि बेचारे इसके अलावा और कुछ भी करने लायक नहीं थे. और तो और, अस्पताल का कोई चतुर्थ श्रेणी अधिकारी भी उनसे टेढे मुँह भी बात तक करने के लिए तैयार नहीं था.  इसी बीच वही मित्र किसी तरह अपनी गैंग के सरदार यानी विधायक जी को इत्तिला कर आया. हालांकि विधायक जी की विधायकी गए क़रीब तीन साल बीत चुके थे, पर अपने चमचों की नज़र में वह अभी भी विधायक ही थे. ख़ुद को पढे-लिखे मानने वाले कुछ बेवकूफ़ किस्म के लोग जब-तब उनकी ऐतिहासिक विधायकी को मानने से इनकार कर देते थे और तब उनको विधायक जी के विधिशास्त्री चमचे ऐसा भूगोल पढाते थे कि वे बेचारे अपने घर का पता तक भूल जाते थे. इसके बाद अगर वे कभी होश में आते थे तो विधायक जी को सीधे मंत्री जी ही कहने लगते थे.

बहरहाल, अपने ख़ास चमचे के एक्सीडेंट और फिर अस्पताल में उसकी भर्ती कराए जाने और वहाँ उसकी तीमारदारी क़ायदे से न होने पाने की सूचना मिलते ही विधायक जी ने किसी बडे डॉक्टर, जिसे उन दिनों शायद सीएमएस कहते थे, को फोन भिडा दिया. सुनते हैं कि अपने ख़ास चमचे की ठीक से तीमारदारी न हो पाने की एवज में विधायक जी ने बडे डॉक्टर साहब के परिवार से अपने अत्यंत अंतरंग संबंधों का तो हवाला दिया ही, यह पूर्व सूचना भी दे दी कि अगर अगले 10 मिनटों में उसके इलाज की प्रॉपर टाइप व्यवस्था न बन गई तो आगे वे मुँह के बजाय जूते से ही बात करेंगे. सौभाग्य से उनकी यह भविष्यवाणी सच भी साबित हुई. बमुश्किल आधे घंटे के भीतर विधायक जी अस्पताल परिसर में पधार चुके थे और वहाँ पहुँचते ही उन्होने किसी ज़िम्मेदार व्यक्ति पर जूतों की बारिश भी शुरू कर दी थी.

इसके बाद तो जैसे पूरे अस्पताल में कर्तव्यनिष्ठता का तूफ़ान ही आ गया. डॉक्टर, नर्स, कपाउंडर, फार्मासिस्ट, वार्डब्वॉय... आदि सभी अपने कर्तव्यपालन में ऐसे जुटे, जैसे सरकारी अस्पताल के कर्मचारी नहीं, फ़ौज के सिपाही हों. हालांकि ऐसी घटनाएं भारतीय इतिहास में कम ही घटती हैं, पर आश्चर्यजनक सत्य उस बार घटित हुआ और वह बेचारा आवारा टाइप घायल आदमी सरकारी अस्पताल से ही तीन दिन बाद पूरी तरह स्वस्थ होकर वापस अपने घर गया. बाद में ऐसी ही कुछ घटनाओं का गवाह बनने का सुअवसर मुझे सिवान, मेरठ और जालंधर में भी प्राप्त हुआ.  इससे आपको हो या न हो, पर भाई मुझे तो इस बात का पक्का यक़ीन हो गया कि जूते की भूमिका सम्पूर्ण भारतीय चिकित्सा जगत में अत्यंत महत्वपूर्ण है.

मुझे आश्चर्य होता है कि इसके बावजूद भारत सरकार या चिकित्सा विज्ञान की मान्य संस्थाओं की ओर से इस विषय पर व्यवस्थित शोधकार्य क्यों नहीं करवाया जा रहा है. आयुर्वेद, एलोपैथ, होमियोपैथी और जो कोई अन्य पैथी भी चिकित्सा जगत में हो सकती है, उस सबमें जूता की इतनी महत्वपूर्ण और सर्वमान्य टाइप की हैसियत के बावजूद अभी तक ऐसा एक भी शोधग्रंथ उपलब्ध नहीं है जिससे कि चिकित्सा विज्ञान के विद्यार्थी इस बात को साफ़ तौर पर जान सकें कि उनके किस प्रकार के प्रयोग से क्या-क्या चिकित्सीय लाभ लिए जा सकते हैं. मेरा तो  मानना कि इस विषय पर जल्द से जल्द व्यवस्थित रूप से शोधकार्य की शुरुआत कर दी जाने चाहिए. वरना कहीं ऐसा न हो कि आने वाले दिनों में हर शोधकार्य को अपनी निजी सम्पत्ति मानने वाला अमेरिका नीम की तरह जूता जी के चिकित्सीय उपयोगों का पेटेंट करा ले और हम देखते ही रह जाएं. वैसे यह भी ग़ौर करने की बात है कि तासीर में नीम जी और जूता जी दोनों एक जैसे हैं और दोनों ही मामलों में अमेरिकी जनता और राजनेताओं की हमसे जबर्दस्त होड भी है.

(चरैवेति-चरैवेति....)

अथातो जूता जिज्ञासा-15

Technorati Tags: ,,

Thursday, 12 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-15

जूते के प्रताप की सीमा यहीं सम्पन्न नहीं हो जाती है. नज़र उतारने या बुरी नज़र से अपने भक्तों को बचाने की जूता जी सामर्थ्य तो उनकी शक्तिसम्पन्नता की एक बानगी भर है. वस्तुतः उनकी कूवत इस सबसे भी कहीं बहुत ज़्यादा है. पता नहीं आधुनिक विज्ञान वालों ने अभी मान्यता दी या नहीं, लेकिन सच यह है कि कई दारुण किस्म के रोगों के इलाज में भी जूता जी का प्रयोग धडल्ले से किया जाता है.

आप ठीक समझ रहे हैं. मेरा इशारा मिरगी नामक रोग की ओर ही है. नए ज़माने के पढे-लिखे टाइप समझे जाने वाले लोग फिट्स कहते हैं. पता नहीं इसे फिट्स कहना वे कितना फिट समझते हैं, लेकिन एक बात ज़रूर है और वह यह कि फिट के इस बहुवचन का प्राथमिक उपचार वे भी जूते से ही करते हैं. यक़ीन मानिए, जूते का ऐसा भी उपयोग हो सकता है, यह अपने पिछडे गाँव में रहते हुए मुझे मालूम नहीं हो पाया. जूता जी की इस सामर्थ्य का पता मुझे तब चला जब मैं शहर में आया.

हुआ यों कि एक दिन एक सरकारी दफ्तर में एक सज्जन को फिट्स पड गया. पहले तो लोगों ने यह समझा कि वह शायद फिट हो गए हैं. ऐसा लोगों ने इसलिए समझा क्योंकि वे सज्जन ऐसे लोगों में शामिल थे जिनके लिए खाने से ज़्यादा पीना ज़रूरी था. तो लोगों को पहले यही लगा. लेकिन थोडी ही देर में जब उनके मुँह से झाग निकलने लगी तो लोगों को यह लगा कि अब शायद मामला पीने से बहुत आगे बढ चुका है. और यह अन्दाजा होते ही पूरे दफ्तर में अफरा-तफरी मच गई. उस वक़्त  उस दफ्तर में उनके सहकर्मियों से ज़्यादा परेशान मैंने चाय-पान के उस छोटे दुकानदार को देखा जिसके यहाँ उनका खाता चलता था.

ख़ैर उसके ही सुझाव पर पहले तो एक सरकारी डॉक्टर साहब को बुलाया गया. मैने सुना था कि वह डॉक्टर साहब डॉक्टरी विद्या रूस से पढकर आए थे. आने के बाद बहुत देर तक तो डॉक्टर साहब अपना आला, ठंढामीटर और पता नहीं क्या-क्या लगा कर क्या-क्या तो देखते रहे, पर कुछ अन्दाजा लगा नहीं पाए कि आखिर इनको जो हुआ है उसे क्या नाम दिया जाए और इन्हें उसके इस प्रकोप से बचाने यानी कि होश में ले आने के लिए क्या किया जाए. इस बीच वह लगातार छटपटाते रहे और मुँह से झाग फेंकते रहे.

आखिरकार उसी दुकानदार के सुझाव पर उन्हें जूता सुंघाया गया.  हालांकि उन्हें जूता सुंघाए जाने का पहले उनके कुछ सहकर्मियों ने विरोध भी किया, पर जब डॉक्टर साहब ने कह दिया कि भाई एक बार करके देखो तो सही. क्या पता कुछ फायदा कर ही जाए, तब भाई लोगों ने उन्हें जूता सुंघाया. जूता सूंघने से वह होश में तो नहीं आए, पर इतना ज़रूर हुआ कि उन्होंने छटपटाना और झाग फेंकना बंद कर दिया. इसके बाद उन्हे अस्पताल ले जाया गया और वहाँ जो कुछ भी हुआ हो उसका साक्षी बनने के लिए मैं वहाँ मौजूद नहीं था.

हालांकि उस वक़्त वहाँ जूता सुंघाने से उनकी हालत में जो सुधार आया था, उस पर मुझे कतई कोई यक़ीन इसलिए नहीं हुआ क्योंकि तब मैं भी ख़ुद को पढा-लिखा मानता था. पहले तो मुझे लगा कि शायद यह जूते का प्रताप नहीं, बल्कि इनकी जीवनलीला की वैलिडिटी का मामला है, पर थोडे दिनों बाद जब उन्हें मैंने दुबारा घूमते पाया तो समझ गया कि उनकी ज़िंदगी फिरसे रिचार्ज होकर आ गई है और यह सब काफ़ी हद तक जूता जी का ही पुण्य प्रताप है.

फिर जब उसी दफ्तर की कैंटीन में बैठे-बैठे एक दिन उनके ही बहाने जूता जी के प्रताप की चर्चा शुरू हुई तो मालूम हुआ कि यह तो सिर्फ़ एक बानगी थी. जूता जी इसके अलावा भी कई अन्य रोगों में उपयोगी साबित होते हैं. एक सज्जन ने बताया कि हांफा-डांफा नामक रोग में भी जूता जी को रोगी के सिर पर से फेर कर उतारा जाता है और इससे आश्चर्यजनक रूप से लोग स्वस्थ होते देखे गए हैं. बताते चलें कि यह जानकारी देने वाले भी वही सज्जन थे जो अपने फिटग्रस्त सहकर्मी को जूता सुंघाए जाने के प्रबल विरोधियों का नेतृत्व कर रहे थे.

(चलते चलिए.....)

अथातो जूता जिज्ञासा-14

Technorati Tags: ,,

Tuesday, 10 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-14

इससे इतना तो जाहिर हो ही गया कि अपनी व्यवस्था में जूते को हमने सिर पर बैठा रखा है. एक और बात हम सुनिश्चित तौर पर कह सकते हैं कि किसी ऐसी चीज़ को किसी देश की व्यवस्था में सिर पर प्रतिष्ठित किया ही नहीं जा सकता है जिसे उस देश के लोक ने अपने सिर पर स्थान न दिया हो. लिहाजा अब इस बात पर आपको कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि जूते को हमारे लोक ने भी अपने सिर पर बैठा रखा है और लोक ने उसे यह महत्वपूर्ण स्थान ऐसे ही नहीं दे दिया है. इसके मूल में कुछ अत्यंत वैज्ञानिक टाइप के कारण निहित हैं.

भारत के कई शहरों के रिहायशी इलाकों में आपको बेहद ख़ूबसूरत इमारतें बनी दिख जाएंगी. अगर ग़ौर फरमाएंगे तो पाएंगे कि उनमें से कई घरों के छज़्जे से जूते लटके होते हैं. आप क्या सोचते हैं कि यह ग़लती से लटक रहे हैं. अरे नहीं जनाब! ऐसा सोचने की ग़लती भी मत करिएगा. असल में ये जूते बहुत सोच-समझ कर लटकाए गए होते हैं. ये जूते घरों के लिए वही काम करते हैं जो बच्चों के सिर पर डिठौने. एक ऐसी दुनिया में जहाँ मुट्ठी भर लोगो के पास सौ-सौ महल हों और करोडों लोगों के पास ढंग की झोपडी भी न हो, वहाँ अच्छे मकानों को देख कर लोगों द्वारा आहें भरना कोई आश्चर्यजनक बात थोडे ही है. और आहों के बारे में संत कबीर बहुत पहले ही कह गए हैं:

निर्बल को न सताइए, जाकी मोटी हाय

मुई खाल की हाय सों सार भसम हो जाय

जानते ही हैं कि 'विषस्य विषौषधम' हमारा ही फार्मूला है और इसी फार्मूले के तहत देखें तो मालूम होता है कि जूता भी मुई खाल का ही बना होता है. अब जब मुई खाल की हाय से सार यानी कि लोहा भसम हो सकता है तो भला ख़ुद हाय या कहें आह की क्या बिसात. तो ये जूते वस्तुतः इसीलिए लगाए जाते हैं ताकि घर पर किसी की बुरी नज़र न लगे और अगर इस पर कोई बुरी नज़र डाले भी तो इसके पहले कि वह बुरी नज़र इसे लगे, वह ख़ुद भस्म हो जाए.

जूते की इस ताक़त को हमने बडी शिद्दत से महसूस किया है. जो लोग ख़ुद को मॉडर्न दिखाना चाहते हैं और इस नाते घर के ऊपर जूता टांगने में शर्माते हैं वे इसके विकल्प के तौर पर काले रंग राक्षस जैसा मुखौटा लटका देते हैं. या फिर कहीं एक कोने में जूते का चित्र ही बना देते हैं. जूते का ऐसा प्रयोग सिर्फ़ घर जैसी अचल चीज़ों पर ही नहीं होता, लगातार सडकों पर चलने वाली बस, ट्रक और टैंपो जैसी सचल वस्तुओं पर भी इनका प्रयोग इस रूप में बडी शान के साथ किया होता है. कुछ लोग तो अपनी गाडी के पीछे सीधे असली जूता ही लटका देते हैं और कुछ लोग जूते का चित्र बना देते हैं. साथ ही उसके आसपास ही कहीं एक जुमला भी लिख देते हैं.

ये जुमले भी कई तरह के होते हैं. कुछ लोग लिखते हैं : 'बुरी नज़र वालों के स्वागत में', तो कुछ लोग लिख देते हैं, 'बुरी नज़र वालों के लिए', और कुछ महानुभाव ऐसा भी करते हैं कि ऊपर लिखते हैं. 'बुरी नज़र डाला तो...' और नीचे जूता लटका देते हैं. यह सब वे इसके बावजूद करते हैं कि स्टियरिंग के ठीक सामने वे भगवान का फ़ोटो तो लगाते ही हैं, उनकी विधिवत पूजा भी करते हैं. ज़ाहिर है, हम ऐसा नहीं मानते कि अकेले भगवान हमारी रक्षा करने में सक्षम हैं. या यह भी हो सकता है कि भगवान को सिर्फ़ आगे से रक्षा के लायक समझा जाता हो और पीछे से रक्षा के लिए सक्षम जूते को ही समझा जाता हो.

यह तो आप जानते ही हैं कि पीछे से रक्षा का ख़याल रखना कितना ज़रूरी है! अरे यहाँ चाहे निजी दफ्तर हो या सरकारी, ऐसे कई कार्य हैं जिनके लिए अगला दरवाजा हमेशा बन्द रहता है और पिछला दरवाजा हमेशा खुला रहता है. अब मामला जो भी हो, पर मुझे तो इससे बलेस्सर भाई की बात और ज़्यादा सही साबित होती दिखती है. अरे वही : भगवान से बढकर....

(चरैवेति-चरैवेति...)

अथातो जूता जिज्ञासा-13

Technorati Tags: ,,

Sunday, 8 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-13

इन मुश्किल कलाओं में विशेषज्ञता हमें ऐसे ही नहीं मिल गई है. अगर ग़ौर से देखें तो इसकी जडें हमारी शिक्षा व्यवस्था के प्राथमिक स्तर से ही मिलनी शुरू हो जाती है. हम उस शिक्षा व्यवस्था की बात नहीं कर रहे हैं जो गाँवों में तथाकथित शिक्षा मित्रों के भरोसे टाट-पट्टी पर चलती है. वह शिक्षा तो सिर्फ़ कहने के लिए शिक्षा है. इसे लेकर भविष्य में सरकार की जो योजनाएं हैं उनसे ही आप इसका अन्दाजा लगा सकते हैं. कौन नहीं जानता कि आने वाले दिनों में इसे ग्रामसभाओं के हवाले कर दिया जाना और वह भी पूरी तरह उनके अपने ख़र्चे-पानी के भरोसे. ज़रा सोचिए, जो अपना ख़र्चा नहीं चला सकता वह मास्टरों और बच्चों का ख़र्च भला किस बूते संभालेगा? ज़ाहिर है, शिक्षा की यह व्यवस्था सिर्फ़ नाम की है. असली शिक्षा व्यवस्था तो वही है जो पूरी तरह अभिभावकों के ख़र्चे पर उनके ही दम से चलती है. हर वह शख़्स जो चाहता है कि उसके बच्चे किसी लायक बन सकें, शिक्षा की उसी प्रणाली का अनुसरण करता है. भले इसके लिए उसे अपने अन्य ज़रूरी ख़र्चों में कटौती करनी पडे.

उस शिक्षा व्यवस्था की ख़ूबी यही है कि उसमें किताबें और कॉपियां तो सिर्फ़ बच्चों को स्पॉंडिलाइटिस जैसे गम्भीर रोगों का शिकार बनाने के लिए बोझ के रूप में होती हैं. बाक़ी पढाई-लिखाई पर कितना ध्यान दिया जाता है, इसका पता उनकी कॉपियां देख कर चल जाता है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि वहाँ ध्यान दिया ही न जाता हो. ध्यान वहाँ दिया जाता है बच्चों के यूनिफॉर्म पर और यूनिफॉर्म में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका होती है जूते की. अगर एक दिन भी उनके जूते चमकते हुए न मिले तो फाइन. ज़ाहिर है, अगर उन्हें फाइन से बचना है तो अपने जूते रोज़ चमकाने ही होंगे. तो वे अपने जूते रोज़ चमका कर ही स्कूल जाते हैं.

यह इस कला का पहला सबक है. हर अच्छी सीख की शुरुआत अपने-आप से. तो वे सबसे पहले अपने जूते चमकाने सीखते हैं. जूते चमकाने की यह सीख तेरह-चौदह सालों तक चलती है. हालांकि शुरुआत में तो चार-छ: वर्षों तक माता-पिता ही उनके जूते चमकाते हैं. फिर धीरे-धीरे वे ख़ुद अपने जूते चमकाना सीख जाते हैं.

इतने दिनों में उन्हें यह भी पता चल जाता है कि सिर्फ़ चमकाने से काम चलने वाला नहीं है. इससे तो केवल वर्जित फल का स्वाद ही मिल सकता है और वह भी दूसरों की कृपा से. इसके बाद वाली यानी ख़ुद उस पेड का मालिक बनने की व्यवस्था जूते चाटने की कला से ही आनी है. इसके लिए उन्हें प्रोफेशनल कोर्सों में दाख़िला लेना पडता है. दाख़िले की यह प्रक्रिया ही अब इतनी जटिल हो चुकी है कि चाटे बिना न मिले. ये अलग बात है पहले चाटने वाला यह काम बच्चों को नहीं, उनके पैरेंटों को करना पडता है.

क्योंकि अब जो भी प्रोफेशनल कहे जाने वाले कोर्स हैं, वे सरकार के खाते में केवल कुछ ख़ास लोगों के लिए रह गए हैं. तो आम आदमी के आम बच्चों को निजी क्षेत्र के इंस्टीट्यूटों या यूनिवर्सिटियों में जाना पडता है. वहाँ डोनेशन से लेकर फीस तक कुल मिलाकर इतना पैसा भरना पडता है कि बेचारे पैरेंटों को ही छठी का दूध याद आ जाता है. फिर भी मामला पूरा नहीं पडता और तब उन्हें वही करना पडता है. अपने जूते घिसने से लेकर नाक रगडने यानी दूसरों के जूते चाटने तक की कवायद. अब ऐसे कपूत-कपूतियां तो इस घोर कलिकाल में भी अभी भारत में नहीं पाए जाते जो माँ-बाप की ऐसी मशक्कत को तुरंत भुला दें. लिहाजा उन बेचारों को भी माता-पिता की नाक रखने के लिए वह सब करना पडता है, जो पहले उनके माता-पिता कर चुके होते हैं. मतलब यह कि थ्योरी से लेकर सेशनल और प्रेक्टिकल तक में अच्छे मार्क्स सुनिश्चित करने के लिए गुरुजनों और प्रबन्धकों से लेकर इक्ज़ामिनरों तक के जूते चाटने की क्रिया. क्रिया-प्रतिक्रिया के इस दौर में ही वे वह सब सीख जाते हैं, जिसकी ज़रूरत कालांतर मे बडा आदमी बनने के लिए पडती है.

(चरैवेति-चरैवेति....)

अथातो जूता जिज्ञासा-12

Technorati Tags: ,,

Friday, 6 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-12

यह तो आप जानते ही हैं कि आजकल अपने देश में ऐसी सभी कलाओं के व्यावसायिक प्रशिक्षण की व्यवस्था हो गई है जिनकी कुछ भी उपयोगिता है. वैसे पहले ये कलाएं लोग अपने-आप सीखते थे. या तो प्रकृति प्रदत्त अपनी निजी प्रतिभा के दम पर, या फिर अपने कुल खानदान की परम्परा से या फिर किसी योग्य व्यक्ति को गुरु बना कर. हालांकि यह प्रक्रिया बहुत ही मुश्किल थी. पहली तो मुश्किल इसमें यह आती थी कि यदि किसी योग्य पात्र में स्वयमेव यह प्रतिभा हो तो भी उसे इसका ठीक-ठीक उपयोग करने के लिए पहले कुछ प्रयोग करने पडते थे. इन प्रयोगों के दौरान शुरुआती दौर में बहुत सारी ग़लतियां होती थीं. ख़ुद ही ग़लती कर-कर के आदमी को यह सब सीखना पडता था. इसके बावजूद वह इसमें पूर्ण रूप से निष्णात नहीं हो पाता था. क्योंकि वस्तुत: उन्हें उसकी जानकारी ही सिस्टेमेटिक नहीं हो पाती थी. जो लोग अपनी कुल परम्परा ऐसी महान विद्याएं सीखते थे उन्हें भी पूरी जानकारी इसलिए नहीं हो पाती थी क्योंकि उन्हें दूसरे गणमान्य कुलों के प्रयोगों और अनुप्रयोगों की जानकारी नहीं हो पाती थी. वस्तुत: कुल परम्पराओं के ज्ञान और पर्यवेक्षण की भी सीमा होती है, बिलकुल वैसे ही जैसे व्यक्तियों की सीमा होती थी.

निजी तौर पर किसी को गुरु बना कर सीखने में झंझट यह थी कि उन दिनों न तो असली-नकली गुरुओं की पहचान के लिए कोई डिग्री-डिप्लोमा का इंतजाम होता था और न ही आईएसओ से सर्टिफिकेशन की जैसी कोई व्यवस्था ही थी.  अगर बग़ैर गारंटी के ही सही, किसी तरह से किसी गुरु की व्यवस्था बना ही ली गई तो भी इस बात का कोई पुख्ता भरोसा नहीं था कि जिसे आप गुरु चुनें वह आपको भी बतौर शिष्य स्वीकार कर ले. कोई शिष्य के तौर पर किसी को स्वीकार कर ले तो भी वह कुछ सिखा ही दे यह भी उन दिनों कहना मुश्किल था. ये गुरु लोग वास्तव में बडे गुरू टाइप के हुआ करते थे. सब कुछ सिखा कर भी कुछ दाँव तो बचा ही लिया करते थे अपने पास. इस तरह अंतत: फिर लोगों का ज्ञान आधा-अधूरा ही रह जाता था.  

जूता संबंधी कलाओं की उपादेयता और इसमें प्रशिक्षण के संकट को देखते हुए आज़ादी के बाद स्वतंत्र भारत की सरकारों ने यह निर्णय लिया कि इस दिशा में व्यवस्थित रूप से काम किया जाए. ऐसी मूल्यवान कला कुछ कुलों या व्यक्तियों तक सीमित न रह कर सर्वव्यापक हो सके और उच्च कोटि की प्रतिभाएं निखर कर समाज के सामने आ सकें इसके लिए ज़रूरी समझा गया कि इस दिशा में व्यावसायिक प्रशिक्षण का इंतजाम बनाया जाए. इस क्रम में सरकारों ने जब इतिहास पर नज़र डाला तो पाया कि परम श्रद्धेय लॉर्ड मैकाले द्वारा दी गई शिक्षा व्यवस्था में इसके मूल तंतु छिपे हुए हैं, ज़रूरत सिर्फ़ उन्हें नए दौर के अनुरूप डेवलप करने भर की है. फिर क्या पूछ्ना था. शुरू हो गए इस दिशा में महत्तर प्रयास.

सबसे पहली व्यवस्था तो यह बनाई गई कि क्लर्क पैदा करने वाली लॉर्ड मैकाले की अंग्रेजी शिक्षा पद्धति को यथावत जारी रखा गया. लेकिन मूढ तो हर जगह और हर दौर में होते रहे हैं और होते रहेंगे. और वे हमेशा बाधक भी बनते रहे हैं, किसी भी उत्तम प्रयास के प्रसार में. तो वे इसमें भी बाधक बने.  इसमें बाधक बने वे लोग जिन पर नई-नई मिली आज़ादी का नशा तारी था. अपने देश की महान परम्परा और संस्कृति के फेर में उन्होने अंग्रेजी पढने से मना कर दिया. दुर्भाग्य से उन दिनों देश में ऐसे मूढों की तादाद बहुत ज़्यादा थी. नतीजा यह हुआ कि व्यवस्था पर चरमराने जैसा संकट मडराता दिखने लगा. लिहाजा हमारे समझदार कर्णधारों ने दूसरी व्यवस्था बनानी शुरू की और वह थी उस समय जैसे-तैसे चल रही अपनी शिक्षा व्यवस्था को अधिकाधिक बेकार बनाने की.

इसके तहत सबसे पहले तो उन्होने ऐसे स्कूलों की डिग्रियों को फालतू बनाया. फिर वहाँ शिक्षा के स्तर को अधिकाधिक गिराया. लगभग नष्ट ही कर दिया. इसके बाद भी जो लोग उसके भूत से चिपके रहे उनके मन में हर देसी चीज़ के प्रति हिकारत और विदेशी ख़ास तौर से अंग्रेजी चीज़ों के प्रति उच्चता की भावना भरनी शुरू की. अति सुरक्षा की चाह रखने वाली देश की आम जनता के मन में यह बात बैठाई कि दुनिया में जीने का एक ही माध्यम है और वह है नौकरी तथा नौकरी हासिल करने का एक ही उपाय है और वह है अंग्रेजी. ऊपर वालों की कृपा से वे इसमें सफल रहे और कालांतर में देश में चतुर्दिक अंग्रेजी शिक्षा का ही बोलबाला नए सिरे से स्थापित हो गया. अब यह शिक्षा यहाँ कोई शौक़ या चॉयस की बात नहीं रह गई है, बल्कि हर ज़िम्मेदार भारतीय नागरिक की ज़रूरत और ज़रूरत से ज़्यादा मजबूरी बन चुकी है. ग़ुलाम भारत में हो सकता है कि आप अंग्रेजी पढे बग़ैर जी लेते होते, पर साहब आज़ाद भारत में आप जीना चाहें और अंग्रेजी न पढें, विरोधाभास अलंकार का इससे उत्तम उदाहरण मिलना मुश्किल है. 

अब तो वह इस क़दर जड पकड चुका है कि अगर लॉर्ड मैकाले की आत्मा स्वर्ग या नरक से यह सब देखती होगी तो उसे ही हैरत होती होगी के यह व्यवस्था भारतवर्ष के लिए मैंने दी थी या महान भारतीय नागरिकों से ख़ुद मैंने ही सीखी थी. अब न केवल उन्हें, बल्कि उनके आकाओं को भी इस बात का पक्का यक़ीन हो गया होगा कि उन्होने अच्छा ही किया जो भारत छोड कर चले गए. ख़ुद यहाँ रहते हुए अभी कई सौ सालों शायद वे इतनी अच्छी तरह से अंग्रेजी भाषा-संस्कृति को स्थापित न कर पाते, जितनी अच्छी तरह उनके खडाऊँ को अपने सिर पर रख कर यहाँ राज करने वाले महान लोकतांत्रिक राजनेताओं ने स्थापित कर दिया. अब उन्हें इस बात का पूरा विश्वास हो गया होगा कि खडाऊँ शासन में हमारी कितनी आस्था है और हम इसमें कितने माहिर हैं.

(चरैवेति-चरैवेति....)

अथातो जूता जिज्ञासा-11 

Technorati Tags: ,,

Thursday, 5 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-11

पाणिग्रहण यानी विवाह जैसे संस्कार में हमारे यहाँ फ़ालतू टाइप की चीज़ों को कतई जगह नहीं दी जाती. इस संस्कार में  हम उन्हीं चीज़ों को अहमियत देते हैं जो हमारे जीवन से साँस की तरह जुडी हैं और जिनका बहुत गहरा अर्थ होता है. अब जिस चीज़ का इतना गहरा अर्थ है कि वह विवाह जैसे संस्कार से जुडी है, वह जीवन के अन्य हिस्सों से जुडी न हो, ऐसा कैसे हो सकता है! पढाई से जूतों का कितना गहरा जुडाव है यह हम आपको पहले ही बता चुके हैं. हमारे सुधी पाठकगण को याद भी होगा. हमारे ज़माने में तो माता-पिता, चाचा-ताऊ और गुरुजी से लेकर बडे भाई-बहन और यहाँ तक कि कभी-कभी अन्य क़रीबी रिश्तेदार भी पढाई के मामले में बच्चों पर इसका इस्तेमाल कर लिया करते थे. नतीजा आप देख ही रहे हैं - हम 12 माइनस 1 भेड और 1 प्लस 1 शेर वाले सवाल भी आज तक ठीक-ठीक हल कर सकते हैं. दूसरी तरफ़ आज का ज़माना है. टीचरों और अन्य लोगों की तो बात ही छोडिए, यहाँ तक कि माता-पिता भी अब जूता जी का इस्तेमाल नहीं कर सकते. बच्चों की समझदारी है कि बिलकुल भारतीय लोकतंत्र होती जा रही है. भेड का सवाल भी वैसे ही जोडते हैं जैसे बकरी वाला और शेर वाला सवाल भी वैसे ही सॉल्व करते हैं जैसे सियार वाला.

बहरहाल, हम बात जूता जी के सम्बन्धों की कर रहे थे और इस सिलसिले में इस नतीजे तक पहुंचे कि पढाई से उनका संबंध बहुत ही गहरा है. फिर जिस चीज़ का पढाई से संबंध हो, उसका नौकरी से रिश्ता न हो, ऐसा हो ही नहीं सकता. ख़ास तौर से ऐसी स्थिति में जबकि भारतवर्ष में हमारे नीति नियामकों के परमपूज्य लॉर्ड मैकाले द्वारा स्थापित शिक्षा पद्धति का एकमात्र उद्देश्य ही नौकरी हो और और इस क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा का आलम यह हो जो दिल्ली शहर की ब्लू लाइन बसों और ग्रामीण क्षेत्रों की जीपों-टंपुओं को भी पछाड दे. पढे-लिखे फालतुओं यानी शिक्षित बेरोजगारों की तादाद भ्रष्टाचार की तरह बढती जा रही हो और नौकरियों का स्कोप नैतिकता की तरह सिकुडता जा रहा हो. इन हालात में नौकरी के सिलसिले में जूतों की भूमिका दिन-ब-दिन हमारे देश ही क्या, पूरी दुनिया में अत्यंत महत्वपूर्ण होती जा रही है.  

ख़ास तौर से हमारे देश में  तो नौकरी सिर्फ़ उन्हीं लोगों को मिलती है जिनके पास बहुत मजबूत किस्म के जूते हों और जो उन्हें घिसने का  अदम्य साहस भी रखते हों. यह घिसना सिर्फ़ चल-चल कर घिसने वाला नहीं होता है. घिसना इसे कई तरह से पडता है. नौकरी पाने के लिए जूतों को धरती पर तो घिसना ही होता है, कई बार आसमान में भी घिसना पडता है. यहाँ तक कि ख़ुद अपने मुँह पर भी घिसना होता है. जूते घिसने की यह प्रक्रिया यहीं ख़त्म नहीं हो जाती है. नौकरी पाने के बाद भी आपको जूते निरंतर घिसते रहने होते हैं. सच पूछिए तो नौकरी में मनोनुकूल तरक़्की और आर्थिक बढोतरी जैसे दुर्लभ फल सिर्फ़ उन्हें ही चखने को मिलते हैं जो बिना किसी शिकवे-शिक़ायत के निरंतर जूते घिसते रहते हैं.

वैसे जूते से जुडी कुछ कलाएं भी हैं. इन कलाओं को जो लोग जानते हैं और उन पर सही तरीके से अमल कर पाते हैं, वे जीवन के सभी क्षेत्रों में लगातार तरक्की ही करते चले जाते हैं. ऐसी ही दो कलाएं हैं - जूते चमकाने और जूते चाटने की. ये अलग बात है कि जूते चाटने की कला चमकाने वाली कला की तुलना में थोडी ज़्यादा कठिन है, पर आप जानते ही हैं, जो कला या तकनीक जितनी ज़्यादा फलप्रद होती है वह उतनी ही कठिन भी होती है. जूते चमका कर तो आप सिर्फ़ दुर्लभ फल ही हासिल कर सकते हैं, लेकिन अगर जूते चाटना सीख जाएं तो स्वर्ग के वर्जित फल का पेड ही आपके किचन गार्डेन की शोभा बढाने लगता है.

इतिहास गवाह है कि जिन लोगों ने इस कला का तकनीकी रूप से इस्तेमाल किया वे हमेशा धन-धान्य-सत्ता और सम्मान से परिपूर्ण रहे. चाहे मुग़ल शासकों का दौर रहा हो या फिर अंग्रेज शासकों का, हर दौर में उनकी चलती रही. और तो और, सुनते हैं कि अब देश में डेमोक्रेसी आ गई है और देखते हैं कि इस डेमोक्रेसी में भी उनकी बीसों उंगलियां घी और सिर कडाही में है. पिछली कई पीढियों से सत्तासुख वैसे ही उनका जन्मसिद्ध अधिकार बना हुआ है, जैसे हमारा-आपका जलालत. ऐसी कोई राष्ट्रीय पार्टी नहीं है, जिसमें उनके परिवार का एक न एक सदस्य महत्वपूर्ण हैसियत में न हो.

सच तो यह है कि उनके परिवार के एक सदस्य का किसी पार्टी में होना ही उसके राष्ट्रीय स्तर पर सफल होने की गारंटी होता है. अगर कोई पार्टी अपने राष्ट्रीय होने का दावा करती है और उसमें उनके परिवार का कोई सदस्य नहीं है तो यह मानकर चलें कि उसके राष्ट्रीय होने का दावा वैसे ही खोखला है, जैसे भारत में कानून के राज का. अगर किसी पार्टी में उनके परिजन नहीं तो समझिए कि वह पार्टी दो कौडी की, उसके नेता दो कौडी के और वह जनता भी दो कौडी की, जो उस पार्टी के प्रति सहानुभूति रखती है. सत्ता में आने का उस पार्टी का सपना बिलकुल मुंगेरीलाल के  सपनों की तरह हसीन ज़रूर हो सकता है, पर है सिर्फ़ सपना ही.

हैसियत उसी पार्टी की है जिसमें वह हों और उनकी अपनी हैसियत इतनी है कि जब चाहें इतिहास बदल दें. हालांकि कहीं-कहीं इतिहास साहित्य बन जाता है और तब उसमें हेर-फेर की गुंजाइश नहीं बन पाती है. लेकिन तब भी उनके पास रास्ते होते हैं और वह यह कि ऐसे साहित्य को वह कम से कम कोर्स से तो निकाल कर बाहर फेंक ही सकते हैं और फेंक ही देते हैं. अब यह अलग बात है कि इस देश की नामुराद जनता फिर भी ऐसे साहित्य को अपने दिल में जगह देती है. बिलकुल वैसे ही जैसे ग़रीबों के हक़ में लडने वाली भारत की तमाम राजनैतिक पार्टियां उनके जैसे राज परिवारों और बडे-बडे धनकुबेरों को.

याद रखें, यह सब प्रताप है सिर्फ़ एक कला की और वह है जूते चाटने की कला. अब हालांकि बेवकूफ़ लोग इस कला को बहुत मुश्किल समझते हैं, पर वास्तव में यह कला उतनी मुश्किल है नहीं. इसमें दिक्कत सिर्फ़ एक एटीट्यूड की होती है और वह भी सिर्फ़ एक-दो बार के लिए. एक बार निजी और दूसरी बार पारिवारिक तौर पर अगर आपने इस कला का प्रयोग कर लिया तो थोडे ही दिनों में आप इसे सार्वजनिक तौर पर करने के योग्य हो जाते हैं. जहां आपने एक-दो बार सार्वजनिक तौर पर इस कला का इस्तेमाल किया कि फिर तो आप जूते में दाल खाने लायक हो जाते हैं और यह तो आप जानते ही हैं कि दाल आजकल कितनी महंगी चीज़ हो गई है. अनुभवी सूत्रों का तो कहना है कि जूते में दाल खाने का जो स्वाद है, वह चीनी मिट्टी के प्लेट में गोइठे के अहरे पर पकी लिट्टी खाने में भी नहीं मिल सकता.

(चरैवेति-चरैवेति.....)

Technorati Tags: ,,

Wednesday, 4 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-10

हालांकि शादियों में सालियों द्वारा जूते चुराए जाने की परम्परा बहुत लम्बे अरसे से चली आ रही है. यह एक सुखद बात है कि 21वीं शताब्दी जबकि ख़ुद शादी की परम्परा यानी विवाह संस्था ही ख़तरे में है, तो भी अगर कहीं कोई नौजवान विवाह का रिस्क लेता है, तो वह बडी ख़ुशी से इस परम्परा का निर्वाह करता है. संगीता पुरी जी ने इस ओर ख़ास तौर से मेरा ध्यान दिलाते हुए इस पुनीत परम्परा पर प्रकाश डालने आदेश किया है. अब उन्हें जूती चुराने का अनुभव है या नहीं, यह तो मैं नहीं जानता, पर मुझे ख़ुद अपने जूते चुराए जाने का प्रीतिकर-सह-त्रासद अनुभव ज़रूर है. साथ ही, पूरे 14 साल बीत जाने के बावजूद अभी तक यह भी याद है कि अपने वे नए और परमप्रिय जूते वापस कैसे पाए और उतनी देर में मैंने क्या-क्या सोच डाला. अब देखिए कि 14 वर्षों में भगवान राम का वनवास और 13 वर्षों में ही पांडवों का वनवास व अज्ञातवास दोंनों बीत गए थे, पर मेरा अहर्निश कारावास अभी तक जारी ही है और कब तक जारी रहेगा, यह मैं तो क्या कोई भी नहीं जानता है.

मेरे घबराने की एक बडी वजह यह थी कि मुझे पहले से इस बारे में कोई आभास नहीं था. असल में हमारे यहाँ जब कोई नया योद्धा विवाह के मैदान में उतरने वाला होता है तो सभी भूतपूर्व योद्धा, जो तब तक खेत हो चुके होते हैं, उसे अपने-अपने अनुभवों के बारे में बता देते हैं. वे सभी आसन्न ख़तरों और उनसे बचने के उपायों का भी पूरा ब्यौरा नए बघेरे को दे देते हैं. मेरे मामले में यह मसला थोडा गड्बडा गया. या तो मेरे क़रीबी वरिष्ठ योद्धा यह बताना भूल गए या फिर उन्होने जान-बूझ कर बताया ही नहीं. क्या पता वे क्राइसिस मैनेजमेंट की मेरी एबिलिटी देखना चाहते रहे हों या फिर यह भी हो सकता है कि वे मजे लेना चाहते रहे हों कि लो अब फंसे बच्चू. बहुत बनते थे बहादुर, अब बचो तो जानें.

तो नतीजा यह हुआ कि मुझे अपने जूते चुराए जाने का ज्ञान ठीक उस वक़्त हुआ जब मैं मंडप से उठा और पहनने के लिए जूते तलाशे तो पता चला कि ग़ायब. पहले तो मैं इस उम्मीद में इधर-उधर तलाशता रहा कि शायद कहीं मिसप्लेस हो गए हों और लोग मुसकराते रहे. आख़िरकार जब मैंने निर्लज्ज होकर (जो मैं पहले से ही था, पर नई जगह पर दिखना नहीं चाह रहा था) पूछ ही लिया तो लोग ठठा कर हंसने लगे. ख़ास तौर से युवतियां व महिलाएं मुँह ढक कर हंसते हुए मुझे जिस दया भाव से देख रहीं थीं उसका साफ़ मतलब यही था- कैसा घुग्घू है. एकदम घोंघा बसंत. इसे इतना भी पता नहीं कि जूते शादी में पहनने के लिए नहीं, साली द्वारा चुराए जाने के लिए होते हैं.

अंतत: एक साली टाइप देवी जी ने ही बताया, "जीजा जी वो तो चुरा लिए गए."

"चुराया किसने?"

"आपकी साली ने."

"लेकिन अब मैं जनवासे तक कैसे जाऊंगा?"

"वह आप जानें" एक साथ कई आवाज़ें आईं और खिलखिलाहट हवा में गूंज उठी. मैं सचमुच सांसत में पड चुका था. पहले तो मुझे लगा कि शायद यह लोग मजाक कर रही हैं.

फिर भी मैंने कहा, "तो थोडी देर के लिए किसी की चप्पल ही दे दें. मैं अपने लोगों के बीच तो पहुंच जाऊँ सुरक्षित."

"जी चप्पल तो अब अगर आप हमें छेडेंगे तो भी आज हम आपको नहीं देने वाले हैं."

मेरे मूढ्पन और अपनी लडकियों के ढीठपन का मसला गम्भीर होते देख आख़िरकार ससुराल पक्ष की ही कोई बुज़ुर्ग महिला मेरे बचाव में सामने आईं. वहाँ मौज़ूद लडकियों को प्रत्यक्ष रूप से डाँटते और परोक्षत: और अधिक चंटपने के लिए ललकारते हुए उन्होने मुझे समझाया, "अरे बाबू ई रिवाज है. आपको पता नहीं है?"

"ऐं! यह कैसी रिवाज?" मुझे तो सचमुच पता नहीं था.

"तो आपको पता ही नहीं कि यह भी एक रिवाज है?" उधर से पूछा गया. "ना, सचमुच नहीं पता." मेरे इस जवाब से वहाँ मौजूद रीति-रिवाज विशेषज्ञों को मेरे घुग्घूपने का पक्का भरोसा हो गया. फलत: एक और सवाल उछला' "पता नहीं इसके बाद वाली बातों का भी पता है या नहीं. कहीं ऐसा न हो कि उसके लिए एक जन इनके साथ यहाँ से और भेजना पडे."

"जी वैसे तो बाद वाली जानकारी के लिए आप लोग एक जन भेज ही रहे हैं, पर अगर भेजना ही चाहें तो एक और भेज सकती हैं. मुझे ख़ुशी ही होगी." मेरे इस जवाब ने उन्हें थोडी देर के लिए लाजवाब तो किया, पर अब सोचता हूँ कि अगर कहीं एक जन और उन्होंने भेज दिया होता तो मेरा क्या हाल होता? जब एक ने ही नाक में बेतरह दम कर रखा है, तो भला डबल को सम्भालने में क्या हाल होता?   

हालांकि यह चुप्पी देर तक टिकी नहीं. उधर से हुक़्म आया, "जनाब अब ऐसा करिए कि नेग दीजिए और अपने जूते लीजिए."

ग़जब! यहाँ तो जूते लेने के लिए भी नेग देना पडता है और वह भी अपने ही.... मैंने सोचा और इसके साथ ही एक दूसरा ख़याल मन में कौंध गया ... कहीं ऐसा तो नहीं कि अगर नेग देकर तुरंत जूते न लिए तो फिर मियाँ की जूती मियाँ के सिर वाली कहावत चरितार्थ होने लगे. क्या पता जूते का रिवाज इसीलिए हो कि आगे चलकर गाहे-बगाहे जब जैसी ज़रूरत पडे पत्नी मेरे सिर उन्हीं जूतों का इस्तेमाल करती रहे. अगर वास्तव में ऐसा हुआ तब तो वास्तव में यह बहुत ही कष्टप्रद मामला होगा. यह विचार मन में आते ही जो कुछ हाथ में आया वह सब मैंने तुरंत साली साहिबा को सौंप दिया.

इतने लम्बे समय तक बेशर्त कारावास झेलने के बाद अब मुझे इस रिवाज का गहरा अर्थ समझ में आया है. साली जूते झटक कर आपको सन्देश मूलत: यही देती है कि देखो अब आज से न तुम कुछ और न तुम्हारा कुछ. जो कुछ भी है वह सब मेरी दीदी का और तुम बस एक अदद घुग्घू. इस जीजा शब्द का मतलब भी बस यही है कि जब मैं कहूँ तो जी जाओ वरना टें बोले रहो. ठीक इसी तरह, अब तुम्हारा जीना-मरना सब मेरी दीदी के इशारों पर निर्भर होगा. सचमुच इसका अभिप्राय यही है कि अब तुम जो कुछ भी कमा कर लाना वह दीदी के हाथों में रख देना और बदले में अगर उम्मीद भी करना तो किसी और चीज़ की नहीं, सिर्फ़ एक जोडी जूतों की.

(वीर तुम बढे चलो.........)

Technorati Tags: ,,

Monday, 2 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-9

उन मित्र ने यह जो जूता लिया था आठ हज़ार वाला वह कौन से ब्रैंड का था, यह तो मैं भूल गया. वैसे भी मैंने उस जूते की बैंडिंग का कोई अनुबन्ध नहीं लिया है. पर सन ज़रूर याद है. वह सन 2006 था. संयोग से इस त्रासद अनुभव से मैं ख़ुद भी गुज़र चुका हूँ. बल्कि इस मामले में मैं उनसे काफ़ी सीनियर हूँ. इसीलिए मैं उनके चहकने की वजह तो समझ ही सकता था, इस चहकनशीलता का भविष्य भी मुझे पता था. किसी भी ज्योतिषी की तुलना में ज़्यादा ज़ोरदार दावे के साथ मैं तभी कह सकता कि इस चहकनशीलता के अहकनशीलता में बदलते तीन साल से ज़्यादा नहीं लगेंगे. हैरत कि उनकी चहकनशीलता बमुश्किल एक साल के भीतर ही अहकनशीलता में तब्दील हो गई.

मामले की गति इतनी सुपरफास्ट टाइप होगी, ऐसा मैने भी नहीं सोचा था. मैंने तो अपने अनुभव के आधार पर सोचा था, जब पत्नी पहले साल चन्द्रमुखी, दूसरे साल सूरजमुखी और तीसरे साल ज्वालामुखी होती थी. अब समय दूसरा है. केवल 12 वर्षों में समय के इस तरह बदलने पर मुझे हैरत हुई. पर तभी एक हाइटेक मित्र ने बताया कि देखिए 20वीं शताब्दी तक आदमियों की पीढी 27 साल में बदला करती थी. यहाँ दस साल में मोबाइल की चौथी पीढी आ रही है. दोनों के बीच कहीं है कोई तुलना. मुझे मानना पडा कि सचमुच यह भी टेक्नोलॉजी का ही कमाल है.

उन्होने मुझे याद दिलाया, 'ख़ुद अपने समय में तुमने भी पूरे एक हज़ार रुपये के जूते लिए थे और वह भी रंगीन था. पूरे 12 वर्षों में अगर देखो तो उस दौर के हिसाब से तो 4000 बैंक के जमा सूद की दर से हो गए और बाज़ार का पैसा तो दिन दूने रात चौगुने गति से बढता ही है. सो अब इनका जूता  आठ हज़ार का है. अब ये है कि तुम आज तक एक हज़ार रुपये से ज़्यादा का जूता लेने के लिए तैयार नहीं हुए, जबकि बाक़ी सारी चीज़ें बढे हुए दाम पर ले रहे हो. चूंकि तुम सारी कटौती सिर्फ़ जूते पर कर रहे हो इसलिए तुम भुगत भी रहे हो. इन्होने वक़्त की नज़ाकत को समझा है और सही तरह का जूता लिया है.'

'और ये चन्द्रमुखी के ज्वालामुखी बनने की प्रक्रिया?'

'अरे भई, वह भी ज़माने की ही रफ़्तार से होगी न! हमारे-तुम्हारे समय में यह बात भारतीय रेल की रफ़्तार से हुई, इनके समय में उस बुलेट ट्रेन की रफ़्तार से हो गई, जिसे अभी लालू जी लाने वाले हैं.'

हालांकि बाद में मुझे मालूम हुआ कि उनका जूता बहुत ही रंगीन मिज़ाज़ निकला. वह अकसर कहीं न कहीं लेडीज़ सैंडिल के आसपास ही पाया जाता है. यहाँ तक कि ससुराल में भी जब साली ने उनका जूता चुराया और उन्होंने उसका नेग यानी कि उत्कोच चुका दिया उसके बाद भी जूता उन्हें काफ़ी देर तक मिला नहीं. काफ़ी खोजबीन हुई और हो-हल्ला मचा. तब जाकर पता चला कि वह जूता असल में दुलहन की मौसेरी बहन की हाई हिल सैंडिलों के नीचे छुप या दुबक गया था. अभी हाल में उन्होने खुलासा किया कि मंडप में बैठे-बैठे ही जब उन्होने अपनी उस मौसेरी टाइप साली को देखा तो इनके मन में तुरंत यह ख़याल आया कि काश यही मेरी असली साली होती.

अब चाहे आप यह कहें कि ईश्वर ने तुरंत उनकी सुन ली या फिर कुछ और, पर बात तो बन ही गई. उसने जूते चुराए या नहीं, इनको नेग को देना पडा. बल्कि असल बात तो यह कि मेरे मित्र ने बडी ख़ुशी से नेग दिया और उस नेग के साथ ही वह मौसेरी टाइप साली भी उन्हें बतौर असली साली मिल गई. कालांतर में वह अपनी अन्य दोनों मौसेरी बहनों के चलते अपने परमप्रिय जीजाजी के इतने ज़्यादा क़रीब आ गई कि उसके चलते ही मित्र के घर की स्थिति लोकसभा जैसी हो गई. पर ख़ैर, क्या किया जा सकता है? वैसे भी अब हम कोई 20वीं शताब्दी के पिछडे भोजपुरिया गांव में नहीं, 21वीं सदी के ईमेल आईडी वाले हाइटेक दौर में जी रहे हैं.

(आगे-आगे देखिए .....)

 अथातो जूता जिज्ञासा-8

Technorati Tags: ,,

Sunday, 1 February 2009

अथातो जूता जिज्ञासा-8

यक़ीन मानें, तबीयत सिर्फ़ आदमियों की ही नहीं, कुछ जूतों की भी बहुत रंगीन होती है. एक बात मैं पहले ही स्पष्ट कर दूँ कि यहाँ मैं केवल कुछ जूतों की बात कर रहा हूँ. मेरी इस बात को पूरी जूता बिरादरी पर किसी आक्षेप के रूप में क़तई न लिया जाए. और फिर हमारे समाज में तो रंगीन मिज़ाज़ होना कुछ ग़लत समझा भी नहीं जाता है. अव्वल तो इसे एक उपलब्धि समझा जाता है. क्योंकि पहली तो बात यह कि रंगीन मिज़ाज़ी के लिए आदमी के भीतर बहुत दमखम होने की ज़रूरत होती है और दूसरी यह कि मर्दानगी सिर्फ़ रंगीन मिज़ाज़ होने में नहीं, अपितु अपनी रंगीनमिज़ाज़ी को मेंटेन करने में है. एक ऐसे समय में जबकि सादा मिज़ाज़ को मेंटेन करने में ही तमाम लोगों की नसें ढीली हो जा रही हैं, भला रंगीनमिज़ाज़ी कोई क्या मेंटेन करेगा?

हालात पर नज़र डालें तो पता चलता है कि रंगीनमिज़ाज़ी मेंटेन कर पाना तो अब केवल जूतों के ही बस की बात रह गई है. (जूतों की सामर्थ्य के बारे में अगर आपको कोई संशय रह गया हो तो कृपया इसी महान ग्रंथ के पन्ने पलट कर सिंहावलोकन कर लें). हालांकि जूतों में भी रंगीनमिज़ाज़ी सबके बस की बात नहीं है. अरे भाई बिलकुल वैसे ही जैसे आदमियों में यह सबके बस की बात नहीं है. जिन जूतों के मिज़ाज़ में रंगीनी होती है, उनकी एक अलग कटेगरी होती है. कटेगरी का यह भेद जूतों के बीच वैसे ही चलता है, जैसे मनुष्यों के बीच जातियों, रंगों, नस्लों या फिर वर्गों का भेद चलता है. जैसे ऊंची नस्ल का उल्लू छोटी नस्ल के उल्लू से बात करना पसन्द नहीं करता है, वैसे ही हाई क्लास का जूता भी लो क्लास के जूते से बात करना कभी पसन्द नहीं करता है और अगर मजबूरी में उसे कभी बात करनी भी पडे तो वह उससे 'जूते' से ही 'बात' करता है.

ऊँची नस्ल के जूतों का दाम भी सचमुच बहुत ऊंचा होता है. उल्लूगिरी के मामले में अगर आप हमारी कटेगरी के होंगे तो आपके तो दाम सुनकर ही प्राण पखेरू हो जाएंगे. एक बार मेरे एक मित्र ने अपना जूता दिखाया. (कृपया जूता दिखाने की बात को मुहावरे के अर्थ में न लें). मैने उनसे दाम पूछा तो उन्होने बताया आठ हज़ार रुपये. मेरा तो मुँह खुला का खुला रह गया यह दाम सुन कर. बिना सोचे-समझे मैं पूछ बैठा, "यार पहनने के लिए ही लिया है या खा....." ख़ुदा की फ़ज़ल से इसके पहले कि वाक्य पूरा होता मुझे अपनी कही जाने वाली बात का मुहावराना अर्थ ध्यान आ गया और हालाँकि मैं वैसा कुछ सोच कर कह नहीं रहा था, इसके बावजूद अचानक सम्भल गया.

यह अलग बात है कि मेरा संभलना किसी काम आया नहीं. उन मित्र ने ख़ुद ही हंसते हुए कहा, "हाँ-हाँ, आप ठीक समझ रहे हैं. खाने के लिए ही लिया है." वह जिस अन्दाज में कह रहे थे उससे यह ज़ाहिर हो रहा था कि वह 'खाने' वाले मामले का प्रयोग मुहावरे के ही रूप में कर रहे हैं और वह भी बडी ख़ुशी से. इस ख़ुशी का कारण पूछने पर मालूम हुआ कि बहुत जल्दी ही उनकी कुड्माई होने वाली है और यह जूता उन्होंने ख़ास उसी अवसर के लिए लिया है. संयोग से अथातो जूता जिज्ञासा के पांचवे खंड पर टिप्पणी करते हुए ज्ञानदत्त जी ने हुक़्म किया था कि मैं जूता जी के प्रकारों के बारे में बताऊँ. मैं निश्चित रूप से उनके आदेश के अनुपालन की पूरी कोशिश कर सकता हूँ, लेकिन मेरा वादा इस मामले में सिर्फ़ कोशिश तक ही सीमित रहेगा. पक्का वादा इसलिए नहीं कर सकता क्योंकि भाई 'जूता अनंत जूता प्रकार अनंता' का एहसास मुझे इसी घटना से हुआ.

जूता दाम की चर्चा प्रकरण से मैं यह समझ सका कि जूतों का वर्गीकरण सिर्फ़ नस्लों-किस्मों के आधार पर ही नहीं, बल्कि अवसरों के अनुसार भी होता है. बाद में मैने ग़ौर किया तो पाया कि जूतों के मामले में अवसरों का यह मामला सिर्फ आंगलिक और मांगलिक ही नहीं, दांगलिक और कांगलिक आयोजनों तक व्यापक है. शादी-ब्याह वाले जूते अलग तरह के हैं, स्कूल वाले अलग और कॉलेज वाले अलग, खेलकूद के अलग और कचहरी के अलग, यहाँ तक कि विधान सभा के अलग और संसद के अलग. यही नहीं विधानसभा और संसद में पहन कर जाने के अलग और जनहित के मुद्दों सत्तापक्ष द्वारा विपक्ष और विपक्ष द्वारा सत्तापक्ष पर चलाने के अलग.

(.... अभी और भी हैं जहाँ आगे-आगे)

Technorati Tags: ,,

अथातो जूता जिज्ञासा-7