Monday, 10 August 2009

अबकी बारिश में ये शरारत....

 

सलाहू इन दिनों दिल्ली से बाहर है. किसी मुकद्दमे के सिलसिले में कोलकाता गया हुआ है. भगवान जाने किस जजमान (चाहें तो उसकी भाषा में मुवक्किल कह लें) को कात रहा है, वह भी मोटा या महीन. अच्छे दोस्त न हों तो आप जानते ही हैं दुश्मनों की कमी खलने लगती है. कल वह मिल गया जीमेल के चैटबॉक्स में. इस वर्चुअल युग में असली आधुनिक तो आप जानते ही हैं, वही है जो बीवी तक से बेडरूम के बजाय चैट रूम में मिले. ख़ैर अपन अभी इतने आधुनिक हुए नहीं हैं, हां होने की कोशिश में लगे ज़रूर हैं. काफ़ी दिनों बाद मुलाक़ात हुई थी. सो पहले हालचाल पूछा. इसके बावजूद कि उसकी चाल-चलन से मैं बख़ूबी वाक़िफ़ हूं और ऐसी चाल चलन के रहते किसी मनुष्य के हाल ठीक होने की उम्मीद करना बिलकुल वैसी ही बात है, जैसे ईवीएम और पार्टी प्रतिबद्ध चुनाव आयुक्त के होते हुए निष्पक्ष चुनाव और उसके सही नतीजों का सपना देखने की हिमाक़त दिनदहाड़े करना. चूंकि दुनिया वीरों से ख़ाली नहीं है, लिहाजा मैं भी कभी-कभी ऐसी हिमाकत कर ही डालता हूं.

सो मैंने हिमाकत कर डाली और छूटते ही पूछ लिया, 'और बताओ क्या हाल है?'

'हाल क्या है, बिलकुल बेहाल है.' सलाहू का जवाब था, 'और बताओ वहां क्या हाल है? तुम कैसे हो?'

'यहां तो बिलकुल ठीक है', मैंने जवाब दिया,'और मैं भी बिलकुल मस्त हूं.'

'अच्छा' उसने ऐसे लिखा जैसे मेरे अच्छे और मस्त होने पर उसे घोर आश्चर्य हुआ. गोया ऐसा होना नहीं चाहिए, फिर भी मैं हूं. उसका एक-एक अक्षर बता रहा था कि अगर वह भारत की ख़ानदानी लोकतांत्रिक पार्टी की आका की ओर से प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया होता तो अभी मेरे अच्छे और मस्त होने पर ऐसा टैक्स लगाता कि मेरी आने वाली सात पीढियां भरते-भरते मर जातीं और तब भी उसकी किस्तें क्रेडिट कार्ड के कर्ज की तरह कभी पूरी तरह चुक नहीं पातीं.

'ये बताओ, वहां कुछ बरसात-वरसात हुई क्या?'उसने पूछा.

'हां हुई न!' मैंने जवाब दिया, 'अभी तो कल रात ही हुई है. और वहां क्या हाल है?'

'अरे यार यहां तो मत पूछो. बेहाल है. नामो-निशान तक नहीं है बरसात का.'

'क्या बात करते हो यार! अभी तो मैंने आज ही टीवी में देखा है कि कोलकाता में क़रीब डेढ़ घंटे तक झमाझम बारिश हुई है!' मैंने उसे बताया.

'तुम मीडिया वाले भी पता नही कहां-कहां से अटकलपच्चू ख़बरें ले-लेकर आ जाते हो.' उसने मुझे लताड़ लगाई, ' ऐसे समय में जबकि ज़ोरों की बारिश होनी चाहिए कम-से-कम तीन-चार दिन तक तो एकदम लगातार, तब डेढ़ घंटे अगर बारिश हो गई तो उसे कोई बारिश माना जाना चाहिए?'

अब लीजिए इन जनाब को डेढ़ घंटे की बारिश कोई बारिश ही नहीं लगती. इन्हें कम-से-कम तीन-चार दिनों की झमाझम बारिश चाहिए और वह भी लगातार. 'भाई बारिश तो यहां भी उतनी ही हुई है. बल्कि उससे भी कम, केवल आधे घंटे की. तो भी मैं तो ख़ुश हूं कि चलो कम-से-कम हुई तो. और तुम डेढ़ घंटे की बारिश को भी बारिश नहीं मानते?'

'अब तुम्हारे जैसे बेवकूफ़ चाहें तो केवल बादल देखकर भी ख़ुश हो सकते हैं और लगातार मस्त बने रह सकते हैं.'

'सकते क्या हैं, बने ही रहते है. देखो भाई, ख़ुश रहना भी एक कला है, बिलकुल वैसे ही जैसे जीवन जीना एक कला है. जिन्हें जीने की कला आ जाती है उन्हें काला हांडी में अकाल नहीं दिखाई देता, अकाल राहत के प्रयास दिखाई देते हैं. उन्हें उस प्रयास के बावजूद पेट की खाई भरने के लिए अपने बच्चे बेचते लोग दिखाई नहीं देते, राहतकार्यों के लिए आए बजट से न केवल अपनी, बल्कि अपने रिश्तेदारों, भाई-भतीजों, दोस्तों और इक्के-दुक्के पड़ोसियों तक की ग़रीबी को बंगाल की खाड़ी में डुबे आते लोग दिखाई देते हैं. जिन्हें वह कला आती है, उन्हें बाढ़ राहत में धांधली नहीं, राहत कोश से अफ़सरों और मंत्रियों के भरते घर दिखाई देते हैं. उन्हें ईवीएम में गड़बड़ी पर फ़ैसला कोर्ट का नहीं, चुनाव आयोग का काम दिखाई देता है. ठीक वैसे ही जिन्हें यह कला आती है, वे डेढ़ घंटे  की  बारिश की निन्दा नहीं करते, बादल देखकर भी प्रसन्न हो जाते हैं.'

'तो रहो प्रसन्न.' उसने खीज कर लिखा.

'हां, वो तो मैं हूं ही.' मैंने उसे बताया, 'तुम्हें शायद मालूम नहीं इतनी ग़रीबी और तथाकथित बदहाली के बावजूद दुनिया में खुशी के इंडेक्स पर भारत का तीसरा नम्बर है. जीवन जीने की कला के मामले में पूरी दुनिया हम भारतीयों का लोहा मानती है. जानते हो कैसे?'

'कैसे?'

'ऐसे कि ऐसे केवल हमीं हैं जो नेताओं से सिर्फ़ वादे सुनकर ख़ुश हो जाते हैं. उन्हे निभाने की उम्मीद तो हमारे देश की जनता कभी ग़लती से भी नहीं करती है. ऐसे समय में जबकि पूरा देश महंगाई और बेकारी से मर रहा हो, हम धारा 377 पर बहस करने में लग जाते हैं. अगर कोई न भी लगना चाहे इस बहस में और वह महंगाई-बेकारी की बात करना चाहे तो हमारे बुद्धिजीवी उसकी ऐसी गति बनाते हैं कि बेचारा भकुआ कर ताकता रह जाता है. गोया अगर वह गे या लेस्बी नहीं है, तो उसका इस जगत में होना ही गुनाह है.'

'हुम्म!' बड़ी देर बाद सलाहू ने ऐसे हुम्म की जैसे  कोई मंत्री किसी योजना की 90 परसेंट रकम डकारने के बाद 10 परसेंट अपने चमचों के लिए टरका देता है.

'अब बरसात का मामला भी समझ लो कि कुछ ऐसा ही है.' मैंने उसे आगे बताना शुरू किया, 'तुम्हें याद है न हमारे एक प्रधानमंत्री हुआ करते थे. वह भी खानदानी तौर पर प्रधानमंत्री बनने की व्याधि से पीड़ित थे. इसके बावजूद उन्होंने कहा था कि हम जब किसी योजना के तहत 100 रुपये की रकम जनता के लिए जारी करते हैं तो उसमें से 85 तो पहले ही ख़त्म हो जाते हैं. मुश्किल से 15 पहुंच पाते हैं जनता तक.'

'हुम्म!' उसने चैटबॉक्स में लिखा और मुझे उसकी मुंडी हिलती हुई दिखी.

'अब वह स्वर्गीय हो चुके हैं, ये तो तुम जानते ही हो.' मैंने उसे बताया और उसने फिर चैट बॉक्स में हुंकारी भरी. तो मैंने आगे बताया, 'तुमको यह तो पता ही होगा कि बड़े लोग प्रेरणास्रोत होते हैं. असली नेता वही होता है, जो देश ही नहीं, पूरी दुनिया की जनता को अपने बताए रास्ते पर चलवा दे.'

उसने फिर हुंकारी भरी तो मैंने फिर बताया, 'अब देखो, वह अकेले ही तो गए नहीं हैं. उनसे पहले भी तमाम लोग वहां जा चुके थे और बाद में भी बहुत लोग गए हैं. वे सारे आख़िर वहां कर क्या रहे हैं! वही कला अब उन्होंने स्वर्ग के कारिन्दों को भी सिखा दी है. लिहाजा बारिश के साथ भी अब ऐसा ही कुछ हो रहा है. इन्द्र देवता बारिश का जो कोटा तय करके रिलीज़ कर रहे हैं उसमें से 90 परसेंट तो वहीं बन्दरबांट का शिकार हो जा रहा है. वह स्वर्ग के अफ़सरों और अप्सराओं के खाते में ही चला जा रहा है. जो 10 परसेंट बच रहा है, वह जैसे-तैसे धरती तक आ रहा है.'

'तो क्या अब इतने में ही हम प्रसन्न रहें.' उसने ज़ोर का प्रतिवाद दर्ज कराया.

'हां! रहना ही पड़ेगा बच्चू!' मैंने उसे समझाया, 'न रहकर सिर्फ़ अपना ब्लड प्रेशर बढ़ाने के अलावा और कर भी क्या सकते हो? जब धरती पर एक लोकतांत्रिक देश में हो रही अपने ही संसाधनों की बन्दरबांट पर हम-तुम कुछ नहीं कर सके तो स्वर्ग से हो रही बन्दरबांट पर क्या कर लेंगे?'

पता नहीं सलाहू की समझ में यह बात आई या नहीं, पर उसने इसके बाद चैटबॉक्स में कुछ और नहीं लिखा. अगर आपको लगता है कि कुछ कर लेंगे तो जो भी कुछ करना मुमकिन लगता हो वही नीचे के कमेंट बॉक्स में लिख दें.

Technorati Tags: ,,,

11 comments:

  1. 'न रहकर सिर्फ़ अपना ब्लड प्रेशर बढ़ाने के अलावा और कर भी क्या सकते हो?-हम तो बढ़ाये बैठे हैं...वो और आप जरुर बच लो!!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया है भइया।
    कुछ कोटा इधर भी भेज देना।

    ReplyDelete
  3. कहाँ से लाये ये आंकडा भाई ?हमने तो सुना था डायबिटीज़ में भारत का सेंसेक्स बढ़ गया है .हायपर टेंशन में .खैर कुल मिला कर बादल यहाँ वहां गरजते तो है .देखे कही तो बरसते होगे

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. क्या कहूं, इस सिस्टम ने ही देश को बर्बाद कर दिया. भागीदारी कोई नहीं कर रहा, हिस्सा सभी बंटा रहे हैं.

    ReplyDelete
  6. anand aa gaya.............

    aap toh yonhi karte raho anand !
    hum toh khaane chale kalakand !

    ReplyDelete
  7. इष्ट देव जी,

    व्यंग्य बढ़िया बन पड़ा है.
    सबसे अच्छी व तमाचेदार तो ये कि - "ऐसे कि ऐसे केवल हमीं हैं जो नेताओं से सिर्फ़ वादे सुनकर ख़ुश हो जाते हैं. उन्हे निभाने की उम्मीद तो हमारे देश की जनता कभी ग़लती से भी नहीं करती है..........वह गे या लेस्बी नहीं है, तो उसका इस जगत में होना ही गुनाह है"

    खूब मजेदार ...खूबै मज़ा आ गया .

    ख़ुशी का इज़हार कुछ इन शब्दों में -

    वे
    गरीबी हटाने
    की बात कह गए
    सीना तानकर,
    किन्तु
    मंहगाई हटाने
    की बात न ला सके
    ज़ुबान पर ?

    ० राकेश 'सोहम'

    ReplyDelete
  8. भाई सोहम जी लाजवाब!

    बहुत ज़ोरदार बात कही आपने.

    ReplyDelete
  9. 'हां! रहना ही पड़ेगा बच्चू!' मैंने उसे समझाया, 'न रहकर सिर्फ़ अपना ब्लड प्रेशर बढ़ाने के अलावा और कर भी क्या सकते हो? जब धरती पर एक लोकतांत्रिक देश में हो रही अपने ही संसाधनों की बन्दरबांट पर हम-तुम कुछ नहीं कर सके तो स्वर्ग से हो रही बन्दरबांट पर क्या कर लेंगे?'

    दलाली संस्कृति में धंसकर लिखा अनुपम व्यंग्य। आपने ठीक ही कहा है, पर्सेंटेज युग के ये नायक अब पर्सेंट से खुश नहीं हैं। इन्हें सेंट-पर-सेंट चाहिए। भूख, गरीबी, आपदा-विपदा के समय तो इनकी अंतड़ी बावन कोस की हो जाती है। कुछ दिन पहले कोशी में देखकर आया हूं।

    ReplyDelete
  10. अब देखिये - आपके हियां बारिश हुई, सलाहू के हियां बारिश हुयी। हम उसी में खुश-मस्तश्च हैं।
    इसका टेक्स कितना भरना होगा?! :-)

    ReplyDelete

सुस्वागतम!!