Saturday, 9 February 2008

बजट में ऐलान : विश्व के किडनी बाजार पर कब्जा करेगा हिंदुस्तान

मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए क्रांतिकारी घोषणा

-दिलीप मंडल

(दरअसल एक मीडिया हाउस में किडनी ट्रांसप्लांट रैकेट और बजट की खबरें एक ही टेबल पर रखी गई थी और खबर बनाने वाले ने दोनों कों एक ही खबर का हिस्सा मान लियाउन्होंने जो खबर लिखी वो इस तरह है।)

देश के वित्त मंत्री डॉक्टर अमित चिदंबरम ने इस साल के बजट में एक क्रांतिकारी प्रस्ताव रखा हैबजट 2008 के लिए उनका प्रस्ताव है कि किडनी ट्रांसप्लांट उद्योग के लिए हर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास एक एसईजेड बनाया जाएगाये एसईजेड दस साल तक टैक्स फ्री जोन होंगे और इन एसईजेड में में जबरन किडनी निकालना दंडनीय अपराध नहीं होगाउनके इस प्रस्ताव का सभी दलों के सांसद ने मेज थपथपा कर स्वागत किया

वित्त मंत्री ने कहा कि देश को मेडिकल टूरिज्म से होने वाली आमदनी की सख्त जरूरत हैये आमदनी साल दर साल बढ़ रही है, लेकिन इसकी संभावनाओं का सही तरीके से दोहन नहीं हुआ हैपूरे यूरोप, मिडिल ईस्ट और अमेरिका में भारतीय किडनी का बाजार हैलेकिन इतने बड़े बाजार को अभी तक सही तरीके से टैप नहीं किया गया हैइसलिए अब इस सेक्टर को बूस्ट करने की जरूरत हैजितनी किडनियां भारत में हैं, उसका दुनिया में कोई मुकाबला नहीं हैपहले हम किडनी बाजार पर कब्जा करेंगे और फिर लिवर के बाजार पर

वित्त मंत्री ने कहा कि एसईजेड में किडनी ट्रांसप्लांट होने से ये उद्योग फलेगा-फूलेगाटैक्स छूट मिलने से ज्यादा से ज्यादा डॉक्टर इस क्षेत्र में आएंगेइससे रोजगार के मौके बढ़ेंगेडॉक्टर और मेडिकल प्रोफेशन के लोगों को छोड़ भी दें तो जिनकी किडनी निकाली जाएगी, उन्हें भी पैसे मिलेंगेइस तरह हजारों लोगों को आमदनी होगी और देश की जीडीपी भी बढ़ेगीसर्विस सेक्टर और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की तरह ट्रासप्लांट सेक्टर भी देश की तरक्की का कारण बन सकता है

देश में ऐसे करोड़ों लोग हैं जिनकी किडनी निकाली जा सकती हैहम इस मामले में पूरे विश्व की जरूरतें पूरी कर सकते हैंमांग ज्यादा हो तो हम कुछ लोगों की दोनों किडनियां भी निकाल सकते हैंहम इस मामले में नंबर वन बन सकते हैंभारत फिर से विश्व में सबसे आगे होगा (तालियां)।

वाणिज्य मंत्री ने चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए कहा कि किडनी ट्रांसप्लांट एसईजेड में होने के कई फायदे हैंएसईजेड पर कई तरह के कानून लागू नहीं होतेउन्होंने कहा कि कानून मंत्रालय को अंग प्रत्यारोपण अधिनियम में संशोधन करने का प्रस्ताव भेजा है, जिसके बाद किसी की किडनी जबरन निकालना अपराध नहीं होगाबल्कि जो लोग किडनी देने से मना करेंगे उन पर देशद्रोह का मुकदमा चलाने की अनुमति होगीकिसी को देश के विकास में आड़े आने की इजाजत नहीं दी जाएगी

इसके अलावा एसईजेड में बाकी अंगों के ट्रांसप्लांट की भी व्यवस्था होगीऐसे एसईजेड एयरपोर्ट के पास होंगे और उनके लिए जमीन एयरपोर्ट अथॉरिटी मुहैया कराएगीइसलिए जमीन अधिग्रहण का भी कोई झगड़ा नहीं होगाविदेश से मरीज आएंगे, अपने जरूरत के अंग की शॉपिंग करेंगे, ट्रांसप्लांट कराएंगे और चले जाएंगेइस तरह हमारे देश में ढेर सारा डॉलर और यूरो आएगा

नेता प्रतिपक्ष ने मांग रखी कि ऐसे एसईजेड को मंजूरी देते समय विपक्षी दलों द्वारा शासित राज्यों के साथ भेदभाव किया जाएवित्त मंत्री ने आश्वासन दिया कि सभी राज्य ऐसे एसईजेड के प्रस्ताव केंद्र के पास भेज सकते हैंबोर्ड ऑफ एप्रूवल उन पर समान भाव से विचार करेगा

4 comments:

  1. दिल जिगर गुरदा फ़ेफ़ेडे,सब के लिये एक ही संस्थान एक ही स्थान , वाह वाह क्या बात है बंगाल सरकार के सामने आई दिक्कते भि नही आयेगी जिनकी जगह पर बनाया जाये स्बसे पहले उन्ही के अंगो की प्रत्यारोपण मे प्राथमिकता...:)

    ReplyDelete
  2. देश की सेज नीति और सरकार व देश के उच्च वर्ग की जहा से हो जैसे हो पैसे कमाने की अनीति पर सटीक टिप्पणी. साधुवाद.
    अतुल

    ReplyDelete
  3. ऐसा पहला सेज़ तो सांसदों के लिये ही बनेगा. FDI की कोई कमी न होगी. चिदम्बरम, मनमोहन और मोंटेक सिंह तो पाइलट प्रोजेक्ट के उत्पाद हैं. आँख, कान, गुर्दा, दिल सब इम्पोर्टेड लगाया है. बस अगले साल इलेक्शन में कोई साइड इफ़ेक्ट न हो.

    बढ़िया.

    ReplyDelete
  4. is khabar ki charcha maine fakar samaj ke samane ki...buri tahra se bamak gaye..chilam per gul charate huye fakkar baba bole isaka target fakkar samaj hai, ganga, bhang pine se unake gurda aur kidani dono durusat hai..aur ve idhar-udhar ghumate rahate hai..jisase unhe asani se pakara ja sakata hai..yadi vitmantri nahi mane to bahut hi jald sansad ke samane chilam jalao pradarshan kiya jayega...babal hone ki puri sambhawane hai....for a great work bhai
    alok nandan

    ReplyDelete

सुस्वागतम!!