Tuesday, 13 November 2007

कता

उम्मीद की किरण लिए अंधियारे में भी चल।
बिस्तर पे लेट कर ना यूँ करवटें बदल।

सूरज से रौशनी की भीख चाँद सा न मांग,
जुगनू की तरह जगमगा दिए की तरह जल ॥

-विनय ओझा स्नेहिल

1 comment:

  1. सूरज से रौशनी की भीख चाँद सा न मांग,
    जुगनू की तरह जगमगा दिए की तरह जल

    bahut adbhut vichaar sunder shabdon mein sajaaya hai

    shubhkamnaon sahit

    Devi

    ReplyDelete

सुस्वागतम!!