Saturday, 9 June 2007

किया क्या जाए

जिंदगी का यदि यही सत्य है तो किया क्या जाए.
यहाँ पेय ही पथ्य है तो पिया क्या जाए.
रात का सिलसिला दिन और फिर रात से -
काल का यदि यही व्रत्य है तो किया क्या जाए.
इष्ट देव सांकृत्यायन

2 comments:

सुस्वागतम!!