Thursday, 31 May 2007

अशआर

सैर कर दुनिया की गाफिल, जिंदगानी फिर कहॉ
जिंदगी ग़र कुछ रही तो नौजवानी फिर कहॉ.
इस्माइल मेरठी

1 comment:

सुस्वागतम!!